अब एक ही नंबर 102 पर उपलब्ध होंगी सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस, परिवहन विभाग का बड़ा फैसला

खबरें बिहार की

पटना: राज्य के सरकारी व प्राइवेट एंबुलेंस अब एक ही टेलीफोन (कॉल सेंटर) नंबर 102 पर उपलब्ध होंगी। कॉल करने पर सरकारी हो या गैर सरकारी एंबुलेंस, पीड़ितों को सहायता पहुंचाने के लिए घटनास्थल पर आएंगी। सड़क दुर्घटना में हताहतों की संख्या को कम करने के लिए परिवहन विभाग ने ऐसा करने का निर्णय लिया है। परिवहन विभाग के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने इस दिशा में कार्रवाई शुरू कर दी है।

 

दरअसल, राज्य में सड़क दुर्घटना के बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाने में देरी हो रही है। गोल्डेन पीरियड यानी समय रहते घायलों को अस्पताल में नहीं पहुंचाया जा रहा है। इस कारण देश में सबसे अधिक 72 फीसदी लोगों की मौत सड़क दुर्घटना में बिहार में हो रही है। आंकड़ों के अनुसार बिहार में 10007 सड़क दुर्घटना में 7205 लोगों की मौत हुई है जो सबसे अधिक है।

समीक्षा के दौरान पाया गया कि समय रहते घायलों को अस्पताल नहीं पहुंचाए जाने के कारण ही लोगों की मौत हो रही है। अगर समय पर घायलों को अस्पताल पहुंचा दिया जाए तो लोगों की जान बचाई जा सकती है। इसका मूल कारण एंबुलेंस की कमी भी एक कारण है।

एंबुलेंस की कमी को दूर करने के उद्देश्य से सरकार ने तय किया है कि सरकारी व निजी एंबुलेंस की सेवा के लिए एक ही आपातकालीन नंबर कर दिया जाए। नंबर एक करने को लेकर प्रस्ताव तैयार किया गया है। ऐसा होने पर कॉल करने के बाद लोगों को आसानी से एंबुलेंस मिल सकेगी। सरकारी हो या प्राइवेट, लोगों को कम समय में अस्पताल पहुंचाया जा सकेगा।
<

Leave a Reply

Your email address will not be published.