चीन-अमेरिका में भी नहीं, भारत में बनेगी दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री, जानिए इसकी खासियत

राष्ट्रीय खबरें

पटना: दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का तमगा अब भारत को मिल चुका है। ये फैक्ट्री नोएडा के सेक्टर-81 में स्थित सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स की 35 एकड़ में फैली है।

1990 के दशक की शुरुआत में भारत में पहला इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण केंद्र स्थापित हुआ, जिसमें 1997 में टीवी बनना शुरू हुआ। मौजूदा मोबाइल फैक्ट्री 2005 में लगाई गई। पिछले साल जून में दक्षिण कोरियाई कंपनी ने 4,915 करोड़ रुपये का निवेश कर नोएडा प्लांट में विस्तार करने का ऐलान किया, जिसके एक साल बाद नई फैक्ट्री अब दोगुना उत्पादन करने के लिए तैयार है।

जानकारी के लिए बता दें कि भारत में कंपनी इस समय 6.7 करोड़ स्मार्टफोन बना रही है और नए प्लांट के चालू हो जाने पर तकरीबन 12 करोड़ मोबाइल फोन की मैन्यूफैक्चरिंग होने की संभावना है। नई फैक्ट्री में ना सिर्फ मोबाइल बल्कि सैमसंग के कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे रेफ्रिजरेटर और फ्लैट पैनल वाले टेलीविजन का उत्पादन भी दोगुना हो जाएगा और कंपनी इन सारे सेगमेंट में नंबर वन की भूमिका में बनी रहेगी।

सैमसंग के भारत में दो विनिर्माण संयंत्र, नोएडा और तमिलनाडु के श्रीपेरुं बदूर में हैं। पांच रिसर्च एंड डेवलेपमेंट सेंटर और नोएडा में एक डिजाइन केंद्र हैं जिनमें 70 हजार लोग काम करते हैं। कंपनी के देशभर में करीब 1.5 लाख रिटेल आउटलेट हैं।

और अब सैमसंग ने भारत में दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री बनाने का एलान कर दिया है। साथ ही जानकारी के लिए बता दें कि कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स के मामले में दुनिया के मैप पर सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री होने का टैग चीन या दक्षिण कोरिया के पास नहीं है और अमेरिका के पास भी नहीं है, बल्कि अब उत्तर प्रदेश के शहर नोएडा को यह उपलब्धि हासिल होने जा रही है।

Source: Live News

Leave a Reply

Your email address will not be published.