इस ट्रेन का सफर तो हवाई जहाज से भी महंगा है, ये बुलेट ट्रेन भी नहीं है भाई

राष्ट्रीय खबरें

पटना :  रेलवे बोर्ड ने त्योहारों को देखते हुए देश में चार हजार स्पेशल ट्रेनों को चलाने का निर्णय लिया है। इसके बाद निजी एयरलाइंस कंपनियों के बीच प्राइस-वार छिड़ गया है। इसके बावजूद रेलवे सुविधा एक्सप्रेस के नाम पर बेसिक किराया का साढ़े तीन गुना से अधिक वसूल रहा है।

17 अक्तूबर को मुंबई-पटना सुविधा एक्सप्रेस के सेकेंड एसी का किराया 9175 रुपया हो गया है, जबकि उसी दिन एयरलाइंस का किराया 7,500 से 9,300 रुपये के बीच है। मुंबई-पटना के बीच चलनेवाली ट्रेनों में बर्थ उपलब्ध नहीं हैं, तो क्यों न सुविधा एक्सप्रेस के यात्री फ्लाइट में टिकट बुक कराएं। एयरलाइंस से पटना आने में किराया कम लगने के साथ ही 27 घंटे की भी बचत होगी।

मुंबई-पटना सेकेंड एसी का किराया 9175 रुपया, जबकि फ्लाइट का किराया साढ़े सात हजार से है शुरू

सुविधा एक्सप्रेस का किराया (मुंबई-पटना) कोच बेसिक किराया 17 व 20 तारीख को किराया स्लीपर कोच 675 रुपये 2490 रुपये थर्ड एसी कोच 1785 रुपये 6435 रुपये सेकेंड एसी कोच 2600 रुपये 9175 रुपये एयरलाइंस का किराया (मुंबई-पटना) विमान 17 को किराया 20 को किराया गो एयर 7617 रुपये 7617 रुपये इंडिगो 9249 रुपये 9246 रुपये स्पाइस जेट 11,127 रुपये 9867 रुपये

निजी कंपनी की तरह बढ़ाया किराया प्रीमियम ट्रेनों के साथ-साथ सुविधा एक्सप्रेस में फ्लैक्सी फेयर लागू है। प्रीमियम ट्रेनों में राजधानी, दुरंतो, शताब्दी और हमसफर एक्सप्रेस हैं। इन ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर के तहत बेसिक किराये से अधिकतम डेढ़ गुना ही बढ़ सकता है।

लेकिन, सुविधा एक्सप्रेस में किराया बढ़ाने का अलग स्लैब लागू किया गया है। 20% सीट बुक होने तक सिर्फ बेसिक किराया लिया जाता है। इसके बाद 20 से 40% में डेढ़ गुना, 40 % से ऊपर में दो गुना, 60 % से ऊपर में ढाई गुना और 80 % से ऊपर में तीन से साढ़े तीन गुना किराया अधिक लिया जा रहा है।

एक माह पहले से बुकिंग सुविधा एक्सप्रेस में टिकट बुकिंग एक माह पहले शुरू की जाती है। इसकी वजह यह है कि नियमित ट्रेन में बर्थ उपलब्ध नहीं हैं, तो यात्री सुविधा एक्सप्रेस में कन्फर्म बर्थ बुक करा सकें। गौरतलब है कि पटना जंक्शन से बुधवार व शनिवार और मुंबई स्टेशन से मंगलवार व शुक्रवार को सुविधा एक्सप्रेस खुलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.