युवती की हत्या के बाद मुखाग्नि देने वाला नहीं था कोई, टीचर ने निभाया फर्ज

कही-सुनी

पटना: प्रेम प्रसंग के कारण युवती के भाई ने ही उसकी हत्या कर दी। शव का अंतिम संस्कार करना था। लेकिन मुखाग्नि देने वाला कोई नहीं था। इस दौरान खुशबू को कोचिंग पढ़ाने वाला टीचर विकास साह तैयार हुआ और अपनी छात्रा को मुखाग्नि देकर अभिभावक का फर्ज निभाया। इस सीन को देख सबकी आंखें नम हो गई। यह घटना बिहार के जमुई जिले के सोनो की है।

टीचर ने कहा-वह मेरी बेटी जैसी थी
विकास खुशबू को कई सालों से कोचिंग पढ़ाया करता था। हत्या के बाद काफी दुखी है। विकास ने कहा कि वह मेरी बेटी जैसी थी। मैंने मुखाग्नि देकर अपना कर्तव्य निभाया है। उसके श्राद्धकर्म का जो भी खर्च होगा मैं खुद उठाउंगा। क्योंकि उसके अपने ही रिश्तेदार हत्यारे निकल गए।

ग्रामीणों ने निकाला शव यात्रा
भाई द्वारा खुशबू की हत्या की जानकारी मिलने के बाद ग्रामीण गुस्से में आ गए। थाना का घेराव कर दिया और आरोपी भाई के घर में आग लगा दी। जिसके बाद अंतिम संस्कार के दौरान लोगों ने शव यात्रा निकाली। जिसमें सैकड़ों की संख्या में लोग शामिल हुए।

भाई ने हत्या कर शव को डाला था टंकी में
खुशबू का सौरभ नाम के एक लड़के से कई सालों से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जानकारी मिलने के बाद आरोपी फुफेरा भाई गोपाल ने बात करने से मना किया था। लेकिन खुशबू बात नहीं मानी। जिसके कारण युवती की हत्या कर दी। हत्या के बाद शव को शौचालय की टंकी में डाल दिया।

खुशबू के माता-पिता की हो चुकी है मृत्यु 
खुशबू की मां रीता देवी की मौत बीमारी के कारण उस समय हो गई थी जब वह 4 वर्ष की थी। पिता जगदीश तमोली की मौत भी बीमारी से ही 2015 में हो गई थी। माता-पिता के मौत के बाद खुशबू अकेली हो गई थी। वह अपने फूफा के घर में रहती थी। खुशबू का पैतृक घर पटना जिले के मरांची में है।

Source: live bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *