राज्य में सरकारी बैठकों में मंत्री से लेकर अधिकारी तक अब भूंजा व फल खाते दिखेंगे।

सरकार ने बैठकों में रेस्टोरेंट के महंगे नाश्ते और जंक फूड के साथ-साथ प्लास्टिक बोतल वाले पानी के उपयोग पर भी रोक लगा दी है। खाने की बर्बादी रोकने के लिए यह कदम उठाया गया है।

पेस्ट्री, बर्गर, पेटीज और सैंडविच की बजाए मंत्रियों-अधिकारियों को फल, भूंजा, बिस्किट और सरकारी कैंटीन में बनी मिठाई या नमकीन परोसी जाएगी। गुरुवार को मुख्य सचिव दीपक कुमार ने विभागीय प्रधान सचिवों को इस व्यवस्था का सख्ती से पालन करने का आदेश दिया।

मुख्य सचिव ने कहा कि अमूमन मंत्री व अधिकारी जंक फूड से परहेज करते हैं, जबकि सामान्यत: बैठकों के दौरान नाश्ते के तौर पर यही परोसा जाता है। इसलिए भविष्य में नाश्ते के तौर पर इसका इस्तेमाल नहीं होना चाहिए।

Sources:-Dainik Bhasakar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here