अयोध्या से जनकपुर तक बनेगा राम-जानकी पथ, पुनौरा के लिए विशेष काम करेगी नीतीश सरकार

खबरें बिहार की

पटना: राज्य के पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने कहा कि रामायण सर्किट को जोड़ने के लिए केंद्र सरकार अयोध्या से जनकपुर तक रामजानकी पथ का निर्माण करने जा रही है। इससे आसानी से दोनों स्थानों पर पहुंचा जा सकता है। पहली बार राज्य में उनकी सरकार बनी तो सड़कें बनीं। रामायण सर्किट की स्थापना की गई। इसके साथ ही पुनौरा धाम के विकास की कहानी भी बढ़ती गई। इस दिशा में लगातार काम चल रहा है।

विकलांगता उनके लिए प्रसाद : रामभद्राचार्य पद्म विभूषण जगतगुरु रामभद्राचार्य ने कहा कि विकलांगता उनके लिए प्रसाद के समान है। पुनौरा धाम से अपने संबंधों की चर्चा करते हुए कहा कि जब पहली बार यहां आया तब राज्य की लालू प्रसाद की सरकार ने उन्हें सांप्रदायिक कहा था। उन्होंने शराबबंदी, दहेज व बाल विवाह पर रोक और बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना को लेकर राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की खूब प्रशंसा की।

राम शब्द की व्याख्या करते हुए कहा कि ‘रा’ से राष्ट्र व ‘म’ से मंगल। अर्थात जिससे राष्ट्र का मंगल हो वही राम है। पुनौरा धाम की चर्चा ऋगवेद व महर्षि वाल्मीकि रचित रामायण में भी है। पुंडरिक ऋषि का आश्रम यहीं था। 148 करोड़ 53 लाख से पुनौरा धाम का होगा विकास : प्रमोद: राज्य के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि उनकी सरकार ने पुनौरा धाम के विकास के लिए 48 करोड़ 53 लाख की योजना स्वीकृत की है। इससे श्रद्धालुओं व पर्यटकों की सुविधाओं का विकास किया जाएगा। पुनौरा धाम दुनिया के मानचित्र में खास स्थान प्राप्त करेगा।

बिहार के पर्यटन के नक्शे में हो पुनौरा धाम
मध्य प्रदेश से राज्यसभा सांसद व सीतामढ़ी के कोरियाही निवासी प्रभात झा ने कहा कि पुनौरा धाम का विकास इस तरह हो कि बिहार के पर्यटन के नक्शे में यह स्पष्ट रूप से दिखाई दे। मुख्यमंत्री ने इस धाम को गोद लिया है। पुनौरा धाम के प्रस्तावित मंदिर की चर्चा करते हुए कहा कि यह अक्षरधाम की तरह बनेगा। उन्होंने अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए राज्यसभा में मामला भी उठाया था। कहा, जगत जननी मां जानकी के मंदिर निर्माण को वे अंतिम लक्ष्य तक ले जाएंगे।

सीतामढ़ी में मां जानकी के नाम से हो विवि
सांसद रामकुमार शर्मा ने कहा कि सीतामढ़ी में मां जानकी विवि की स्थापना की मुख्यमंत्री के समक्ष मांग रखी। इसके लिए वे जमीन उपलब्ध कराने का प्रयास करेंगे। उन्होंने इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक कॉलेज की स्थापना करने व उन्होंने जिला का नाम सीतामढ़ी के बदले सीतामही नाम रखने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.