इस “मुन्ना” ने की थी घर के खिलाफ जाकर शादी,दहेज लेने से साफ कर दिया था मना

एक बिहारी सब पर भारी

बिहार में लालू यादव के बेटे तेजस्वी पर RJD-JDU की लंबी तकरार के बाद नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।20 महीने पुरानी महागठबंधन सरकार के सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद नीतीश अब बीजेपी के समर्थन से सरकार चलाएंगे। जिनमें एक है- जब उनकी पत्नी मंजू कुमारी का देहांत हुआ, उस वक्त वे फूट-फूटकर रोए थे।उन्होंने बेटे निशांत के साथ पत्नी की अर्थी को कंधा दिया था। हालांकि, यह भी कहा जाता है कि अंतिम कुछ सालों में पत्नी के साथ नीतीश का रिश्ता बहुत अच्छा नहीं था। नीतीश ने घरवालों की मर्जी के खिलाफ बिना दहेज के शादी की थी। वे ओबीसी समुदाय से आते हैं और जाति के कुर्मी हैं।

वहीं, उनकी पत्नी मंजू कुमारी सिन्हा का नाम सुनकर अंदाज लगाया जाता है कि वे कायस्थ हैं, लेकिन वे भी कुर्मी समुदाय से ही आती हैं। बता दें कि बिहार में कायस्थ भी सिन्हा सरनेम लिखते हैं।
मंजू कुमारी पटना में एक स्कूल टीचर थीं। दोनों की 1973 में शादी हुई थी। मंजू का 2007 में निधन हो गया था। पत्नी की मौत पर नीतीश की हालत बच्चों जैसी थी। वे अर्थी को कंधे पर उठाकर चिता तक ले जाने के दौरान लगातार रोते रहे।
नीतीश का जन्म 1 मार्च 1951 को बिहार में नालंदा जिले के कल्याणबीघा गांव में हुआ था। उनकी मां परमेश्वरी देवी हाउस वाइफ थीं। जबकि, पिता कविराज राम लखन सिंह फ्रीडम फाइटर थे।
घर में उन्हें ‘मुन्ना’ के नाम से जाना जाता था। नीतीश ने बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (अब एनआईटी पटना) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की और कुछ समय तक बिहार स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में काम भी किया।
हालांकि, बाद में नौकरी छोड़कर पूरी तरह राजनीति में सक्रिय हो गए। नीतीश के बेटे निशांत, अपने पिता की तरह ही इंजीनियर हैं। वे बीआईटी मेसरा से ग्रेजुएट हैं।
70 के दशक में इंदिरा गांधी और कांग्रेस सरकार की नीतियों के खिलाफ पूरे देश में गुस्सा था। जय प्रकाश नारायण के नेतृत्व में बिहार के साथ पूरे देश में आंदोलन चल रहा था। ऐसे में नीतीश कुमार भी उस आंदोलन से जुड़ गए।
जेपी के इस आंदोलन ने केंद्र की इंदिरा सरकार को गिराने में अहम भूमिका निभाई। तब इस आंदोलन में कई युवा नेता उभर कर सामने आए, इनमें से एक नीतीश भी थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.