नीतीश की नई सरकार की अटकलों के बीच तेजस्वी यादव का रुद्राभिषेक, तेज प्रताप भी मंत्र पढ़ते रहे

जानकारी राजनीति

बिहार में सियासी हलचल बढ़ती जा रही है। बीजेपी-जयदू का पुराना गठबंधन टूट के कगार पर है। नए सियासी गठबंधन की आहट साफ सुनाई दे रही है।  बीजेपी खामोश है तो जदयू के नेता खुलकर बोल रहे हैं। राजद, कांग्रेस, माले को नीतीश कुमार के बीजेपी से अलग हो जाने का इंतजार है। इन पार्टियों ने अपने सभी विधायकों को पटना तलब कर लिया है।  बीजेपी के चाणक्य अमित शाह ने नीतीश कुमार से बात हुई वार्ता बेनतीजा रही। नीतीश कुमार कांग्रेस प्रेसिडेंट सोनिया गांधी के संपर्क में हैं। इन सब के बीच सत्ता विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव धर्म-कर्म में लगे हैं।

 

सोमवार को सत्ता समीकरण के बनते-बिगड़ते खेल के बीच तेजस्वी यादव ने सपरिवार रुद्राभिषेक किया। राबड़ी आवास पर सावन की अंतिम सोमवारी पर रुद्राभिषेक यज्ञ का आयोजन किया गया। इस पूजनोत्सव में उनके बड़ी भाई तेजप्रताप यादव भी शामिल हुए।

सोमवार तेजस्वी सुबह से ही भगवान शिव की अराधना में जुटे रहे। दिनभर 10 सर्कुलर रोड मंत्रोच्चार से गूंजता रहा। वैसे भी लालू-राबड़ी परिवार में किसी शुभ काम से पहले पूजा-अराधना की परंपरा रही है। इस दौरान घर में पार्टी के किसी नेता की इंट्री पर पूरी तरह रोक लगा दी गई था। पूजा में केवल परिवार के लोग ही शामिल थे। घर के बाहर बड़ी संख्या में कार्यकर्ता अवश्य जमा थे।

वैसे तो सावन में पूरा देश शिवभक्ति में लीन है लेकिन, तेजस्वी यादव की शिवभक्ति को खास नजरिए से देखा जा रहा है। तेजस्वी के भाई तेजप्रताप की भक्तिभाव वाली तस्वीरें अक्सर देखने को मिलते हैं। तेजप्रताप जब भी मानसिक अवसाद में होते हैं तो वे तीर्थयात्रा पर निकल जाते हैं। लेकिन नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को रूद्र की भक्ति करते देख कई मायने लगाए जा रहे हैं। यह सब तब हो रहा है जब बिहार बड़े बदलाव के मुहाने पर खड़ा है। सवाल उठ रहा हैं कि विपक्ष से सत्ता पक्ष में जाने के लिए तेजस्वी भगवान भोलेनाथ से आशिर्वाद तो नहीं ले रहे?

Leave a Reply

Your email address will not be published.