नीतीश सरकार की छात्रों को सौगात, अब एजुकेशन लोन के लिए नहीं लगाने होंगे बैंक के चक्कर

खबरें बिहार की

पटना: छात्रों की शिकायत रही है की एजुकेशन लोन के मामले में बैंकों का रवैया हमेशा से ख़राब रहा है। प्राइवेट बैंक लोन देने के नाम पर परेशान करते हैं। तरह-तरह के प्रकियाओं को पूरी करने के बाद भी उनके स्वेक्षा पर निर्भर होता है की वह लोन देंगे की नही। जबकि भूमिहीन आवेदकों को भी जमीन के कागजात जमा करने की बात कही जाती है जिसके कारण चाहकर भी जरूरतमंद छात्रों को पढ़ाई के लिए लोन नहीं मिल पाता है। लेकिन अब नई व्यवस्था के तहत स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के अंतर्गत बैंकों के बजाय बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम से ऋण मिलेगा।

इस बाबत मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री ने बैंक अधिकारियों के साथ हुई बैठक में आक्रोश भी जाहिर किया था। जिसके बाद सुधार नहीं होते देख मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 5 अप्रैल 2018 को बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम की शुरूआत कर दी है। राज्य सरकार की इस नई व्यवस्था से उम्मीद जगी है कि छात्रों को अब किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी।

बिहार के छात्रों को राज्य शिक्षा वित्त निगम ने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के तहत चार लाख तक का शिक्षा ऋण स्वीकृत करने की योजना बनाई है। उम्मीद है की इसी महीने जुलाई के दुसरे सप्ताह से इस योजना के तहत छात्रों को लोन मिलना शुरू हो जायेगा। बिहार में शैक्षणिक स्तर को बढ़ाने के लिए लगातार बिहार सरकार द्वारा स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना में नई तकनीक व योजना के साथ छात्रों को लाभ पंहुचाने के लिए प्रयास किया जा रहा है।

राज्य शिक्षा वित्त निगम के माध्यम से बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के तहत मिलने वाले शिक्षा ऋण की स्वीकृति ईआरपी सोफ्टवेयर के माध्यम से होगा। जिसको लेकर राज्य शिक्षा वित्त निगम के तरफ से सभी जिलों के डीआरसीसी प्रबंधक को पत्र भी भेजा जा चुका है। सब कुछ ठीक रहा तो संभवतः इसी महीने से लोन मिलना शुरू हो जायेगा।

Source: Live Bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published.