जोकीहाट हार पर पहली बार छलका नीतीश का दर्द, मंच से कहा…

राजनीति

पटना: जदयू के युवा सम्मेलन में नीतीश कुमार ने जोकीहाट हार पर पहली बार सार्वजनिक मंच से अपनी बात रखी। नीतीश ने कहा कि जोकीहाट में मैं वोट मांगने नहीं गया था। लोगों से काम के आधार पर वोट करने की बात जरूर कही थी।

नीतीश ने कहा कि मुझे वोट की चिंता नहीं है और ना ही जातीय समीकरण पर मेरा यकीन है। नीतीश ने सम्मेलन में कहा कि मेरे 12 साल के कार्यकाल को उठाकर किए गए कार्यों के इतिहास को देख सकते हैं।

आज जोकीहाट में अल्पसंख्यकों का वोट नहीं मिलने का दर्द भी छलकता दिखा। नीतीश ने कहा कि बिहार में पहले अल्पसंख्यकों के लिए मात्र 3 करोड़ का बजट हुआ करता था लेकिन हमने उसे बढ़ाकर 800 करोड़ कर दिया। पहले मदरसों की क्या स्थिति थी यहां सब जानते हैं और आज क्या है देख लें।

अल्पसंख्यक युवक रोजगार करना चाहते हैं। आज हमारी सरकार हरसंभव मदद के लिए तैयार है। इस मद में पहले मात्र 25 करोड़ का बजट होता था आज हमने इसे बढ़ाकर 100 करोड़ कर दिया है। हर क्षेत्र में हमने काम करने की कोशिश की है। पहले 12% से अधिक बच्चे स्कूल से बाहर थे, सब को हमने स्कूल भेजने की व्यवस्था करवाई। गांव-गांव बिजली की व्यवस्था करवाई। उस स्कीम को देखकर केंद्र सरकार ने भी उसे अपनाया। कानून का राज कायम किया और जीरो टॉलरेंस की नीति लागू की।

Source: etv bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *