इंदिरा गांधी के बाद दूसरी बार मिला किसी महिला को रक्षा मंत्रालय, निर्मला सीतारमण नई रक्षा मंत्री, नारी सशक्तिकरण की मिसाल

राष्ट्रीय खबरें

अभी-अभी महिलाओं से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहां निर्मला सीतारमण को देश की पहली स्वतंत्र रूप से महिला रक्षा मंत्री बनाया गया है। निर्मला को अरुण जेटली की जगह रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। जेटली के पास रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार था।

जेटली के पास वित्त मंत्रालय भी है। पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के बाद निर्मला देश की दूसरी महिला रक्षा मंत्री होंगी। हालांकि इंदिरा ने पीएम रहते हुए रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाली थीं। रविवार को पीएम नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल के तीसरे विस्तार में निर्मला को प्रमोट करके कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।

निर्मला के पास इससे पहले वाणिज्य मंत्रालय की जिम्मेदारी थी। निर्मला के अलावा पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान और मुख्तार अब्बास नकवी ने भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ली है। गोयल को रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। मुजफ्फरनगर के खतौली में रेल हादसे के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अपने पद से इस्तीफे की पेशकश की थी।

पीएम मोदी ने उन्हें इंतजार करने को कहा था। सुरेश प्रभु को वाणिज्य मंत्रालय दिया गया है। नितिन गडकरी को सड़क परिवह मंत्रालय के साथ-साथ गंगा जल संसाधन मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। इससे पहले जल संसाधन मंत्रालय उमा भारती के पास था। प्रधान को पेट्रोलियम मंत्रालय के अलावा कौशल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है।

स्मृति इरानी के पास सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अलावा कपड़ा मंत्रालय की जिम्मेदारी बनी रहेगी। इस बीच मंत्रिमंडल विस्तार के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ब्रिक्स की बैठक में भाग लेने के लिए चीन रवाना हो गए हैं।

अरुण जेटली के पास वित्त बरकरार, सुरेश प्रभु वाणिज्य मंत्री बने

आज के विस्तार में 4 राज्यमंत्रियों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है और 9 नए राज्यमंत्री बनाए गए हैं। राष्ट्रपति भवन हुए शपथग्रहण समारोह के बाद सभी को मंत्रालयों का प्रभार सौंपा गया। यह बात अलग है कि पीएम नरेंद्र मोदी सब पहले ही तय कर चुके थे। वह यह सब करके चीन रवाना हो गए।

अभी तक की जानकारी के पीयूष गोयल को रेलमंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है, वहीं वित्तमंत्रालय अरुण जेटली के पास बने रहने की जानकारी भी मिल रही है वहीं, रक्षामंत्रालय निर्मला सीतारमण को दिया गया है। वह देश की पहली महिला रक्षामंत्री होंगी। वहीं रेलमंत्री छोड़ने वाले सुरेश प्रभु को वाणिज्य मंत्री बनाए गए हैं। बताया जा रहा कि अरुण जेटली बतौर रक्षामंत्री जापान में होने वाली बैठक में शामिल होंगे। यह कार्यक्रम पहले ही तय हो गया था।

धर्मेद्र प्रधान के पास पेट्रोलियम मंत्रालय बरकरार है, वहीं स्मृति ईरानी को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का जिम्मा दिया गया है। नरेंद्र तोमर को ग्रामीण विकास एवं खनन मंत्रालय का जिम्मा भी दिया गया। वह पंचायती राज मंत्री भी हैं। वहीं नितिन गडकरी को गंगा एवं जल संसाधन मंत्रालय दिया गया है। यह साफ है कि यह मंत्रालय उमा भारती से वापस ले लिया गया है।

नरेंद्र मोदी मं‍त्री मंडल में केरल, कर्नाटक, दिल्लीत, राजस्थाेन, बिहार और उत्तीर प्रदेश के नये चेहरों को जगह दी गई है। बताया जा रहा है कि यह सारी तैयारी ‘मिशन 2019’ को ध्यानन में रखकर किया गया है। इससे पहले पार्टी अध्याक्ष ने ‘मिशन 350+’ को लेकर सांसदों के साथ बैठक की थी। राष्ट्रपति भवन में शपथग्रहण समारोह आयोजित हुआ।

मुख्तार अब्बास नकवी, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल और धर्मेद्र प्रधान को प्रमोशन दिया गया है। उन्हें राज्यमंत्री से कैबिनेट का दर्जा दिया गया है। अनंत हेगड़े, वीरेंद्र कुमार और हरदेव सिंह पुरी को मंत्री बनाया गया है।

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर और बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह तथा पूर्व गृह सचिव और बिहार के आरा से सांसद आरके सिंह को भी मंत्री बनाया गया है। गजेंद्र सिंह, अल्फोंस कन्नाथनम, शिवप्रताप शुक्ला और अश्विनी चौबे को भी मंत्री बनाया गया है। इस फेरबदल में किसी भी सहयोगी दल से मंत्री नहीं बनाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.