मिलिए बक्सर के नए- बेहद कड़क डीएम से, लापरवाही नहीं बर्दाश्त लेकिन काम करने वाले को…

खबरें बिहार की

राज्य सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के कई अधिकारियों का स्थानांतरण-पदस्थापन-प्रतिनियोजन किया है. बाढ़ को लेकर बिहार प्रशासनिक सेवा के कई अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति भी की गई है. राज्य सरकार ने अरविन्द कुमार वर्मा को बक्सर का नया जिलाधिकारी बनाया है. 2012 बैच के आइएएस अधिकारी अरविंद कुमार वर्मा बक्सर के नए जिलाधिकारी हैं। उन्हें उप विकास आयुक्त मुजफ्फरपुर से बक्सर जिलाधिकारी के रूप में प्रोन्नति दी गई है। बक्सर में जिलाधिकारी के रूप में उनकी यह पहली पोस्टिंग है।

बक्सर में जिलाधिकारी का पद मुकेश पांडेय द्वारा आत्महत्या किये जाने के बाद रिक्त हो गया था. IAS मुकेश पांडेय ने अगस्त माह के पहले पखवाड़े में गाजियाबाद में रेल से कटकर अपनी जान दे दी थी. वे 2012 बैच के IAS अधिकारी थे. आत्महत्या के पीछे पारिवारिक कारण बताया जा रहा है. सुसाइड नोट भी छोड़ गए थे.

इससे पूर्व अरविंद कुमार वर्मा IRS कंप्लीट कर एक साल तक मुंबई में असिस्टेंट कमिश्नर भी रह चुके हैं। नए डीएम इंजीनियरिंग के छात्र रहे हैं और आइआइटी कानपुर से मेकेनिकल में बी-टेक की डिग्री भी हासिल की है।

मूल रूप से उत्तरप्रदेश के सुल्तानपुर के रहने वाले नए जिलाधिकारी ने अपने आइएएस जीवन की शुरूआत दानापुर से की। दानापुर में उनकी पहली पोस्टिंग अनुमंडल पदाधिकारी के रूप में हुई। एसडीओ के रूप में एक साल की सेवा देने के बाद उन्हें मुजफ्फरपुर का डीडीसी बनाया गया।

वहां पिछले दो साल से कार्यरत हैं। स्व. आरके गुप्ता के पुत्र अरविंद वर्मा ने 2012 में आइएएस की मेरिट लिस्ट में अपना स्थान बनाया। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व उन्होंने 2009 में भी उन्होंने यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास की और उन्हें भारतीय राजस्व सेवा के लिए चुना गया।

उसके बाद उन्हें मुम्बई में असिस्टेंट कमिश्नर बनाया गया था। हालांकि, उनका लक्ष्य भारतीय प्रशासनिक सेवा में आना था और उन्होंने अपनी मेहनत जारी रखी। इस तरह वर्ष 2012 में उन्होंने आरएएस कंप्लीट की और आज उन्हें बक्सर के जिलाधिकारी की महत्वपूर्ण भूमिका सौंपी गई है।

नव पदस्थापित जिलाधिकारी की पत्नी डॉक्टर हैं। हालांकि, उन्होंने सरकारी सेवा में योगदान नहीं किया है। बताते चलें कि मुजफ्फरपुर के डीडीसी से बक्सर के डीएम बने अरविंद वर्मा की पहचान सख्त प्रशासनिक अधिकारी के रूप में है। वह समय पर काम को तरजीह देते हैं और लापरवाही किसी की बर्दाश्त नहीं करते।

राज्य सरकार ने आज लखीसराय के जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह को भी हटा दिया. वे 15 दिन पहले ही लखीसराय के डीएम बनाए गए थे. इसके पहले अवनीश भागलपुर नगर निगम के आयुक्त थे. चर्चा है कि डीएम अवनीश कुमार सिंह के खिलाफ लखीसराय की SDM शैलजा शर्मा ने राज्य सरकार को गंभीर किस्म की शिकायत की थी. इसके बाद ही सरकार ने कार्रवाई की है. अवनीश कुमार सिंह को सामान्य प्रशासन विभाग में पदस्थापन की प्रतीक्षा में रहने को कहा गया है.

2012 बैच के IAS अधिकारी अमित कुमार को लखीसराय का नया जिलाधिकारी बनाया गया है. वे अभी भागलपुर के उप-विकास आयुक्त थे. सरकार ने इसके साथ ही लखीसराय की SDM शैलजा शर्मा का स्थानांतरण भी कर दिया है और उन्हें मुजफ्फरपुर का उप-विकास आयुक्त बनाया गया है. शैलजा 2013 बैच की IAS हैं.

राज्य सरकार ने आज सुधीर कुमार को पूर्णिया का विशेष आयुक्त (बाढ़) बनाया है. बाढ़ की सबसे अधिक मार पूर्णिया प्रमंडल ही झेल रहा है. 1988 बैच के IAS सुधीर कुमार अभी बिहार सरकार में कृषि विभाग के प्रधान सचिव हैं. इसके अलावा राज्य सरकार ने बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों में सुबोध कुमार चौधरी को बाढ़ राहत कार्य में सहयोग देने के लिए किशनगंज में तैनात किया है. अजित वत्सराज को कटिहार और राजेश कुमार सिंह को अररिया में प्रतिनियुक्त किया गया है. ये सभी जिला प्रशासन को बाढ़ राहत का कार्य मुस्तैदी से चलाने के कार्य में सहयोग प्रदान करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.