new BJP CM

क्या राज्य को मिलेगा नया मुख्यमंत्री ?? BJP के इस कद्दावर नेता को मिल सकती है गद्दी

राजनीति

गुजरात विधानसभा चुनाव की सियासी रणभूमि में बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने हैं. कांग्रेस गुजरात के युवा त्रिमूर्ति के दम पर दो दशक के वनवास को खत्म करने में लगी है, तो वहीं बीजेपी अपनी सत्ता को बचाए रखने के लिए कांग्रेस के बागी विधायकों का सहारा ले रही है.

बीजेपी ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बागी विधायकों को सियासी रण में उतारने का मन बनाया है. गुजरात को फतह करने के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मोर्चा संभाले हुए हैं. राहुल गांधी ने गुजरात में ओबीसी के युवा चेहरा अल्पेश ठाकोर को अपने साथ कर लिया है.

दूसरी ओर बीजेपी कांग्रेस के हथियार से उसे एक बार मात देने की जद्दोजहद की है. बीजेपी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के 14 विद्रोहियों पर दांव लगाने के लिए तैयार है.

new BJP CM

बीजेपी यूपी और उत्तराखंड के फार्मूले को गुजरात में अजमाना चाहती है. यूपी सपा, बसपा और कांग्रेस के विधायकों और उत्तराखंड में आधा दर्जन के करीब कांग्रेस के विधायकों को जिस प्रकार चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल कराया था और उन्हें विधानसभा चुनाव में बीजेपी का टिकट देकर मैदान में उतारा था.

चुनाव में ये सभी विधायक जीतकर आए थे. उसी फार्मूले को गुजरात में भी बीजेपी दोहराना चाहती है. बता दें कि गुजरात के राज्यसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के कई विधायकों ने पार्टी से बगावत कर बैठे थे. इनमें से कई विधायकों ने बीजेपी का दामन थाम लिया था.

new BJP CM

बीजेपी इन विधायकों पर दांव लगाने जा रही है. बीजेपी को उम्मीद है कि कांग्रेस के बागी विधायक अपनी-अपनी सीट को बरकरार रखने में सफल रहेंगे. यही वजह है कि बीजेपी इन पर दांव लगाने जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस के 12 बागी विधायकों को पार्टी से टिकट देने का फैसला किया है. जबकि शंकर सिंह वाघेला और उनके बेटे महेंद्र सिंह तीसरा मोर्चा बनाने में जुटे हैं.

गुजरात के बदले सियासी माहौल में शंकर सिंह वाघेला बीजेपी के साथ गठबंधन कर सकते हैं. क्योंकि वाघेला की राजनीतिक पृष्ठभूमि जनसंघ की रही है. कांग्रेस के बागी विधायकों का अपना राजनीतिक आधार है.

यही वजह है कि 2012 में बीजेपी की लहर में भी ये कांग्रेस से जीतने में सफल रहे हैं. ऐसे में बीजेपी को लगता है कि इस बार भी कांग्रेस के बागी जीतने में सफल हो सकते हैं. इसी मद्देनजर पार्टी उन्हें विधानसभा चुनाव में उतारने का मन बनाया है.

वहीं बता दें अगर गुजरात चुनाव में भाजपा की जीत होती है तो सूबे के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.