NEET Exam : फुल स्लीव्स पहनकर आए स्टूडेंट को काटनी पड़ी आधी स्लीव्स, हाई हील्स पर भी नो एंट्री

राष्ट्रीय खबरें

पटना: एमबीबीएस में दाखिले के लिए रविवार को राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (नीट) देने पहुंचे छात्रों को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था से गुजरना पड़ा। यहां परीक्षा के पहले चेकिंग के दौरान फुल आस्तीन की शर्ट पहनकर आए छात्रों को अपनी आस्तीन काटनी पड़ी वहीं लड़कियों को भी कान की बाली सहित अन्य सामान बाहर रखकर जाना पड़ा। इंदौर में जहां 22 सेंटर में परीक्षा अायोजित की गई वहीं भोपाल में 23 सेंटर पर छात्रों ने परीक्षा दी। बता दें कि कोर्ट के निर्देश के बाद परीक्षा का संचालन सीबीएसई द्वारा करवाया जा रहा है।

60 हजार सीटों के लिए 13 लाख 36 हजार परीक्षार्थी

– देशभर के 136 शहरों में आयोजित इस परीक्षा में 13.26 परीक्षार्थी शामिल हुए हैं। देशभर के 60 हजार एमबीबीएस सीटों के लिए लिए यह परीक्षा ली जा रही है।

– सुबह 10 बजे से शुरू हुई परीक्षा में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में छात्र दो घंटे पहले ही परीक्षा केंद्र के बाहर जमा हो गए थे। परीक्षा केंद्र में दाखिल होने से पहले उन्हें कड़ी जांच से गुजरना पड़ा।

– स्लॉट ए वाले स्टूडेंट्स को सुबह 7.30 और स्लॉट बी वाले स्टूडेंट्स को 8.30 बजे प्रवेश दिया गया 9.30 बजे के बाद किसी स्टूडेंट को एंट्री नहीं दी गई।

– मेटल डिटेक्टर से चेकिंग के दौरान कई छात्रों को बेल्ट और घड़ी बाहर रखनी पड़ी। इतना ही नहीं फुल स्लीव्स के कपड़े पहनकर आए छात्रों को अपनी अाधी स्लीव्स काटनी पड़ी। वहीं लड़कियों को भी कान की बारी, क्लचर, हाथ के कड़े आदि बाहर उतारने पड़े।

हल्के रंग के कपड़े पहनकर आने के थे निर्देश

– बता दें कि लगातार परीक्षा को लेकर उठ रहे सवालों को देखते हुए इस बार अतिरिक्त सतर्कता बरती गई थी। इसलिए विद्याथियों को परीक्षा के दौरान हल्के रंग के कपड़े पहनने के निर्देश दिए गए थे।

पर्स, एटीएम, जूते पर परीक्षा हाल में नो एंट्री

– पर्स, एटीएम कार्ड, लॉकेट, जूते, फुल स्लीव्स की शर्ट, घड़ी, धूप वाले चश्में, हेयर क्लिप, रबर बैंड, चूड़ी आदि लेकर आए स्टूडेंट्स को परीक्षा हॉल में एंट्री नहीं देने पर मनाही थी। इसके गर्ल्स को साड़ी और मेहंदी लगाकर आने की भी मनाही थी।

ये पहनकर आने की दी थी सलाह

– हवाई चप्पल या सैंडल, हाफ टी-शर्ट या शर्ट, ट्राउजर, लैगिंस, लोवर, प्लाजो, सलवार, हाफ स्लीव्स कुर्ती, टॉप पहनकर आने पर एंट्री थी। इसके अलावा मंगलसूत्र पहनकर भी जाने देने की छूट थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.