NDA में टूट के बाद पहली बार भाजपा-JDU आमने-सामने, कई मायनों में खास है बिहार विधानमंडल का शीतकालीन सत्र

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार विधानमंडल का शीतकालीन सत्र मंगलवार से शुरू हो रहा है। इस बार विधानमंडल के दोनों सदनों का शीतकालीन सत्र हंगामेदार नोट पर शुरू होने की संभावना है। बिहार में एनडीए में टूट के बाद पहली बार भाजपा और जदयू आमने-सामने होंगे। विपक्ष में बैठी इकलौती पार्टी भाजपा लॉ एंड ऑर्डर, विकास और युवाओं को नौकरी के मुद्दों पर राज्य की नीतीश कुमार की सरकार को घेरने की तैयारी में है।

सुबह 10.30 बजे शुरू हो रहे विधानमंडल के शीतकालीन सत्र में पांच बैठक होंगी। महत्वपूर्ण कार्यवाही में द्वितीय अनुपूरक बजट शामिल है। इसे पहले ही दिन वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी पेश करेंगे। विधानसभा में शपथ के बाद अध्यक्ष अवध बिहारी चौधरी का संबोधन होगा। वे अध्याशी सदस्यों के नाम घोषित करेंगे। कार्य मंत्रणा समिति का गठन होगा। प्रभारी मंत्री दो सत्रों के बीच की अवधि में राज्यपाल द्वारा प्रख्यापित अध्यादेशों की प्रतियां सदन पटल पर रखेंगे। शोक प्रकाश से पहले वित्तीय वर्ष 2022-23 का द्वितीय अनुपूरक बजट पेश किया जाएगा।

नीतीश कुमार के विपक्ष में होगी सिर्फ भाजपा

शीतकालीन सत्र शुरू होने का साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राजनीतिक जीवन में एक और नया अध्याय जुड़ने जा रहा है। मंगलवार को विधानसभा के शीतकालीन सत्र में शामिल उनके विरोध में सिर्फ भाजपा ही होगी।भाजपा की मदद से ही नीतीश कुमार पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने थे। वर्ष 2005, 2010, 2017 और 2020 में भी एनडीए में रहते हुए ही नीतीश कुमार सत्ता में बने रहे थे। अब वही भाजपा विधानसभा के भीतर एकमात्र विरोधी पार्टी है। भाजपा ने भी सरकार को घेरने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। रोजगार, विकास, अपराध जैसे कई मुद्दों पर भाजपा नीतीश कुमार को कटघरे में खड़ा करेगी।

उप चुनाव में जीते विधायक लेंगे सदस्यता की शपथ

शीतकालीन सत्र के पहले दिन 13 दिसंबर को ही उप चुनाव में जीते विधायकों को सदस्यता की शपथ दिलाई जाएगी। पहली पाली में सदन की कार्यवाही प्रारंभ होने के बाद कुढ़नी विधानसभा सीट से जीते भाजपा के केदार गुप्ता शपथ लेंगे। इन्होंने कुढ़नी में जदयू के प्रत्याशी मनोज कुशवाहा को हराया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.