नवरात्रि में न करें ये गलतियां, मां हो जाएंगी नाराज, धन- हानि का करना पड़ेगा सामना

आस्था जानकारी

26 सितंबर से नवरात्रि के पावन पर्व की शुरुआत हो गई है। 4 अक्टूबर तक नवरात्रि की धूम रहेगी। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा की विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है। मां की कृपा से जीवन में सभी तरह के सुखों की प्राप्ति होती है। हर कोई चाहता है कि मां की उसपर विशेष कृपा रहे। जिस व्यक्ति पर मां की कृपा होती है उसका जीवन सुखमय हो जाता है। लेकिन कुछ आदतों की वजह से मां नाराज हो जाती हैं। इन आदतों की वजह से व्यक्ति को जीवन में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आइए जानते हैं किन आदतों की वजह से मां नाराज हो जाती हैं-  

साफ- सफाई का ध्यान नहीं रखने वालों से नाराज हो जाती हैं मां लक्ष्मी

  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां का वास उसी घर में होता है जहां पर साफ- सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता है। जो लोग गदंगी करते हैं मां लक्ष्मी की उन पर कृपा नहीं रहती हैं। मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए साफ- सफाई का हमेशा ध्यान रखें।

जो व्यक्ति दूसरों का अपमान करता है उससे नाराज रहती हैं मां लक्ष्मी

  • जो व्यक्ति दूसरों लोगों का अपमान करते हैं उनसे मां नाराज रहती है। मां उन लोगों से प्रसन्न रहती हैं जो सभी लोगों का मान- सम्मान करते हैं। ऐसे लोगों जो दूसरों का सम्मान करते हैं उन आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है।
  • समर्थ होने के बाद भी मदद नहीं करने वालों से नाराज हो जाती हैं मां
  •  
    • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार व्यक्ति को अपनी क्षमता के अनुसार दान जरूर करना चाहिए। दान का कई गुना फल प्राप्त होता है। ऐसा माना जाता है जो लोग समर्थ होने के बाद भी दूसरों की मदद नहीं करते हैं उन लोगों से मां नाराज हो जाती हैं। मां की कृपा प्राप्त करने के लिए जरूरतमंत लोगों की मदद जरूर करें।

    क्रोध करने वाले व्यक्ति से मां रहती हैं नाराज

    • क्रोध करने वाले व्यक्ति से मां नाराज हो जाती है। मां की कृपा प्राप्त करने के लिए अपने क्रोध का त्याग कर दें। मां लक्ष्मी उसी घर में वास करती जहां शांति होती है।

    (इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।)

Leave a Reply

Your email address will not be published.