नागालैंड में बोले सीएम नीतीश, हम जेपी के सिद्धांतों पर चलकर ही कर रहे बिहार का विकास

खबरें बिहार की जानकारी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने 14 सदस्यीय कमिटी बनाई थी। उस कमिटी में मैं भी शामिल था। वे हमें बहुत मानते थे। इस कारण जेपी को करीब से जानने-समझने का मौका मिला। बिहार में जब हमें काम करने का मौका मिला तो हम उन्हीं के बताए रास्तों पर चलकर राज्य का विकास कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने ये बातें जेपी जयंती पर आयोजित राजकीय समारोह, जदयू की ओर से सम्राट अशोक कन्वेंशन हाल स्थित बापू सभागार में आयोजित कार्यक्रम और नागालैंड में आयोजित एक समारोह में कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी स्मृति में हमलोग सब काम करते रहते हैं। लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में ही हमलोगों ने काम किया है। उनकी इच्छा और सिद्धांतों के अनुरूप चल कर ही बिहार को लगातार आगे बढ़ाने और इसके विकास के लिए काम कर रहे हैं। जब तक हम जीवित हैं, उन्हें भूल नहीं सकते हैं।

बापू सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोकनायक से जुड़े कई संस्मरणों को साझा किया। कहा कि हम जयप्रकाश नारायण आंदोलन में शामिल रहे हैं। वर्ष 1974 में हम लोगों के अनुरोध पर ही जेपी आंदोलन के लिए सहमत हुए थे। सम्पूर्ण क्रांति का नारा दिया। शुरुआत छात्र आंदोलन से हुई। फिर यह पूरे देश में फैल गया। उनके आह्वान पर छात्रों ने कॉलेज जाना बंद कर दिया था। एक साल तक पटना विश्वविद्यालय बंद रहा। उसके बाद जब कुछ छात्र कॉलेज जाने लगे तो हमने कॉलेज में जाकर अभियान चलाया। बाद में मुझे ही जेल में बंद कर दिया गया। 5 जून, 1974 को जेपी की गांधी मैदान की सभा में पांच लाख से अधिक लोग शामिल थे। कार्यक्रम के आयोजक से कहा कि वे जेपी के उस भाषण को घर-घर पहुंचाएं ताकि लोग सचेत व सतर्क हों।

सीएम नीतीश ने कहा कि जेपी की भूमिका केवल उस आंदोलन से ही नहीं आंकी जा सकती है। बापू ने जब 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन चलाया तो उस समय जेपी जेल में बंद थे। जेल तोड़कर वे बाहर आए और उस आंदोलन को चलाया। स्वतंत्रता संग्राम में जेपी की अग्रणी भूमिका थी। बिहार में जन्मे जेपी का प्रभाव पूरे देश में था। 1964 में जब नागावासियों और सेना के बीच तनाव कायम हुआ तो जेपी तीन वर्ष तक नागालैंड में रहे। उनकी पहल पर ही नागालैंड में शांति कायम हुई। उनके इस योगदान को नागालैंड के निवासी आज भी याद करते हैं। उनके मन में जेपी के प्रति अगाध श्रद्धाभाव है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.