Patna: कोई अच्छी खबर मिलने पर ‘अपनों ‘ का खुश होना स्वाभाविक है। ऐसा ही कुछ खुशनुमा माहौल है राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू यादव के घर का।जिन्हें शनिवार को झारखंड उच्च न्यायालय ने चारा घोटाले के मामले में कुछ शर्तों के साथ जमानत दे दी। एक तो कोरोना का संकट दूसरे विरोधियों के मुंह न खुल जाए, इसलिए परिवार जश्न तो नहीं मना रहा किन्तु बेटे-बेटियों की खुशी का ठिकाना नहीं है। क्योंकि अब उनके पिता लालू यादव के जेल से बाहर आने का रास्ता साफ हो गया है। लेकिन सबसे ज्यादा खुश हैं लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य जो पिता की जमानत के लिए नवरात्रि व्रत और रोजा रखने की बात कह चर्चा में आईं।

लालू यादव की बेटी को ईदी मिल गई है। शनिवार को उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट कर अपनी खुशी का इजहार किया। अपने पापा के लिए व्रत और रोजा रखने की रोहिणी बात के बाद सियासत में गर्मी आ गई। राजद सुप्रीमो के धुर विरोधी राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य सुशील मोदी ने तंज किया कि लालू के परिवार के जो सदस्य जमानत के लिए व्रत और रोजा, दोनों रखने करने की बात कर रहे हैं, दरअसल वे किसी भी उपासना पद्धति के प्रति ईमानदार नहीं हैं. उससे कुछ होने वाला नहीं। लालू परिवार सत्ता और सम्पत्ति के लिए ईश्वर- छठी मइया और अल्ला को भी धोखा देने की कोशिश करता रहा है।

सुशील मोदी के इस बयान पर पलटवार करते हुए रोहिणी आचार्य ने कहा की हमको ब्रत और रोजा पर ईश्वर अल्लाह को धोखा देने की बात वही नाकाम व्यक्ति कर रहा है. जो ना ठीक से बिहारी हुआ, ना ही राजस्थानी! इस चुनाव में भी बुरा हाल हो गया! ना घर का रहा, ना घाट का! एक बात बताइये आपकी पत्नी मंदिर जाकर पूजा करती हैं. हिन्दू धर्म पर ज्ञान दे रहे. खुद ईसाई से शादी किये।

पिता लालू को जमानत मिलने के तुरंत बाद रोहिणी आचार्या ने ट्विटर पर लिखा, मेरा रमज़ान और नवरात्र सफल हुआ। आज मुझे ऊपर वाले के तरफ से ईदी मिल गई। उन्होंने कहा कि हिंदू मुस्लिम एकता की जीत हुई और नफरती, जहरीली सोच की हार। देखो-देखो शेर आया, जहरीली परवरिश वालों का मुंह काला हुआ। रोहिणी इतने पर ही नहीं रुकीं, उन्होंने ट्वीट के माध्यम से लगातार हमले जारी रखे। ट्विटर पर लिखा, अन्यायी कब तक अन्याय करेगा। मसीहा को कब तक कैद रखेगा..। आया आया देखो कौन..? तानाशाह सत्ता से वो लड़कर..! गरीबों का मसीहा आया..। इस माटी का लाल जो आया।

Source: DBN News Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here