Nitish Kumar

मुलायम सिंह यादव- मुख्यमंत्री का चेहरा बनने के लिए Nitish Kumar मेरे सामने रोये थे

राजनीति
मुलायम सिंह ने Nitish Kumar को लेकर किया सनसनीखेज खुलासा

उन्होंने दावा किया है कि सीएम का चेहरा बनने के लिए Nitish Kumar उनके सामने रोये थे. उन्होंने ये भी कहा कि लालू किसी भी कीमत पर नीतीश पर भरोसा करने को तैयार नहीं थे. इस दौरान उन्होंने नीतीश पर बिहार के मतदाताओं को धोखा देने का आरोप लगाया. मुलायम सिंह ने कहा, लालू चाहते थे कि चुनाव के बाद विधायकों की संख्या के मुताबिक सीएम चुना जाये.

मतलब साफ था कि लालू Nitish Kumar के साथ सिर्फ गठबंधन चाहते थे. वह मुख्यमंत्री के चेहरे के बिना चुनाव में जाना चाहते थे. इसके पीछे लालू की रणनीति ये थी की अगर उनकी पार्टी को ज्यादा सीट मिले तो वो बाद में नीतीश पर दबाव डाल सकें. हालांकि, मुलायम के दबाव में लालू ने नीतीश की मांग मान ली थी.



Nitish Kumar




8 जून 2015 को मुलायम सिंह के घर पर लालू और नीतीश की बैठक हुई थी. इसमें सीटों के बंटवारे को लेकर फैसला होना था. उसी दौरान जनता दल का हिस्सा रहे दलों को एकजुट करने की एक मुहिम चल रही थी, जिसके कारण मुलायम उस बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. मुलायम ने मुखिया के तौर पर न सिर्फ लालू और नीतीश के बीच सीट बंटवारे पर सहमति बनाई, बल्कि नीतीश का रास्ता भी आसान कर दिया.

नीतीश और लालू की जंग में मुलायम का कूदना कई मायने में महत्वपूर्ण है. मुलायम सिंह न सिर्फ लालू के रिश्तेदार हैं, बल्कि नीतीश से उनकी सियासी अदावत भी रही है. इस वक्त नीतीश के बीजेपी के साथ जाने से वह नाराज भी हैं.



बता दें कि आने वाले दिनों में मुलायम और शरद यादव की मुलाकात भी हो सकती है. सूत्रों के अनुसार, दोनो नेता अपनी-अपनी पार्टी से नाराज हैं. मुलायम के छोटे भाई शिवपाल एक सेक्युलर मोर्चा बनाने की भी फिराक में हैं. नीतीश द्वारा इस्तीफ़ा देकर बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद लालू लगातार उन पर हमला कर रहे हैं.

अब नीतीश कुमार मुलायम सिंह के निशाने पर भी आ गए हैं. लालू, शरद और अब मुलायम के हमले की जद में आने के बावजूद नीतीश की सियासी सेहत पर कोई असर नहीं पड़ने वाला, लेकिन उनकी छवि पर सवालिया निशान तो लग ही रहा है.



Leave a Reply

Your email address will not be published.