मुजफ्फरपुर के मोतीपुर प्रखंड का बांध टूटा, सैकड़ों घरों में घुसा पानी, दहशत में लोग

कही-सुनी

पटना: बिहार में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. मुजफ्फरपुर ज़िला के मोतीपुर प्रखंड के पाना छपरा गांव के पास त्रिहूत मुख्य नहर का बायां तटबंध टूट गया. जिस कारण करीब 150 घरों में पानी घुस गया है. वहीं लगभग छह एकड़ से अधिक धान का बिचड़ा भी बर्बाद हो गया है. आपको बता दे कि पाना छपरा गांव के 634 आर डी के पास तिरहुत मुख्य नहर का बायां तटबंध टूट गया है. देर रात होने के कारण ग्रामीणों को इसकी भनक तक नहीं लगी. आपको बता दे कि घरों में पानी घुसने के बाद ग्रामीणों में भागदौड़ की स्थिति बन गई है.

प्रभावित लोग ऊंचे स्थान पर पलायन कर रहे हैं

पानी के तेज बहाव ने तबतक डेढ़ सौ घरों को अपनी चपेट में ले लिया था. वहीं प्रभावित गांव के बीडीओ और सीओ ने मौके पर पहुंचकर जायजा लिया है. साथ ही आवश्यक दिशानिर्देश भी दिए गए है. प्रभावित लोग ऊंचे स्थान पर पलायन कर रहे हैं. वरीय पदाधिकारियों की टीम और इंजीनियर बांध को बांधने का प्रयास कर रहे हैं. पदाधिकारियों ने बताया है कि जल्द ही बांध को कटाव वाले जगह को बन्द कर दिया जाएगा.

मानसून आते ही बिहार में नदियां ऊफनाने लगी

बता दें कि मानसून आते ही बिहार में नदियां ऊफनाने लगी हैं. नेपाल के पानी से कोसी व बागमती सहित कई नदियों का पानी गांवों व सड़कों पर आने लगा है. इस बीच गंडक बराज से 84 हजार क्‍यूसेक पानी छोड़ा गया है. इस बीच अररिया के सिकटी बिलायती बाड़ी में पुल ध्वस्त हो गया है. नदियों के किनारे के गांवों के लोग सुरक्षित ठिकानों की तलाश में जुट गए हैं. बारिश व बाढ़ ने सरकार की बाढ़ पूर्व तैयारियों की भी पोल खोल दी है.

नदियों के जलस्तर में उतार -चढ़ाव जारी रहा. गंडक बराज से 84 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया. मधुबनी जिले में कमला बलान नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. भूतही बलान, कोसी सहित अधवारा समूह की नदियों के जलस्तर में भी वृद्धि जारी रही. लदनियां में धौंस नदी एनएच -104 का कटाव कर रही है. सीतामढ़ी के चोरौत प्रखंड की दो पंचायतों को जोड़ने वाली सड़क पर रातो नदी का पानी बहने से आवागमन ठप हो गया है. शिवहर में बागमती के जलस्तर में कमी से एनएच -104 पर आवागमन चालू हो गया है. पूर्वी चंपारण से अभी भी सड़क संपर्क भंग है.

Source: Muzaffarpur Now

Leave a Reply

Your email address will not be published.