पायलट की नौकरी छोड़ की तैयारी, मिली सफलता, कहा- रोज 7-8 घंटे पढ़ाई की

प्रेरणादायक बिहारी जुनून

संघ लोक सेवा आयोग की 2017 की परीक्षा में पेशे से पायलट रहे बिहार के भागलपुर जिले के भीखनपुर के मोतीउर्रहमान ने यूपीएससी में 154वीं रैंक हासिल की है। बीते वर्ष पहले अटेंप्ट में उन्होंने पीटी क्वालिफाई किया और इस वर्ष दूसरे अटेंप्ट में मुकाम हासिल कर लिया।

मोतिउर्रहमान माउंट असीसी स्कूल भागलपुर के स्टूडेंट रहे हैं। दो वर्षों से जामिया मिलिया इस्लामिया में रहकर यूपीएससी की तैयार कर रहे थे। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान एकेडमी राय बरेली से एविएशन का कोर्स किया। पायलेट बनने के बाद उन्होंने यूपीएससी करने की ठानी और इग्नू से बीए फिलॉस्फी की। वह एसएम कॉलेज के इकनॉमिक्स विभाग के अध्यक्ष डॉ. तबस्सुम परवीन और एसबीआई के रिटायर्ड मैनेजर एसएम साजिद के बेटे हैं।

मोतीउर्रहमान ने कहा, मैंने रोजाना सात से आठ घंटे की पढ़ाई की
मोतीउर्रहमान ने कहा कि मुझे पायलेट बनने का शौक था। मगर मुझे एहसास हुआ कि पायलट बनकर मैं उस तरह से देश की सेवा नहीं कर पाऊंगा, जितना प्रशासनिक सेवा में जाकर कर सकूंगा। हवा में रहकर भी देश की सेवा कर सकता था, मगर मुझे जमीन पर रहकर देश की सेवा करनी थी।

मैं इग्नू से पॉलिटिकल साइंस में मास्टर्स भी कर रहा हूं, मैं पॉलिटिक्स को करीब से समझना चाहता हूं। मैंने रोजाना सात से आठ घंटे पढ़ाई की। मेरे लिए बहुत कठिन नहीं रहा, क्योंकि मैंने सिलेबस पर अच्छी पकड़ बना ली थी। पेपर थोड़ा ट्रिक्री होता है, सवाल जरा लंबे होते हैं। इसलिए जवाब शॉर्ट और सिंपल लिखने चाहिए। मेरे ख्याल से चयनकर्ता सिर्फ ये देखना चाहते हैं कि आपका कॉन्सेप्ट कितना क्लियर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.