मोतिहारी बस हादसा: यात्री ने बयां किया घटना का दर्दनाक मंजर ‘मेरे सामने बस के साथ जल रहे थे लोग’

खबरें बिहार की

पटना: बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के कोटवा थाना क्षेत्र में गुरुवार (3 मई) को एक यात्री बस के गड्ढे में पलट जाने और उसमें आग लग जाने से कम से कम सात लोगों की मौत हो गई. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस दुर्घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है. पुलिस के अनुसार, यात्रियों को लेकर एक यात्री बस मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही थी, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर बगरा के समीप चालक का बस से नियंत्रण हट गया और वह सड़क किनारे एक गड्ढे में जा गिरी. बस के पलटने के बाद उसमें आग लग गई.

यात्री ने सुनाई आपबीती 
सीतामढ़ी के डूमरा कैलाशपुरी के यात्री आदित्य श्रीवास्तव ने बताया कि बस करीब ढाई बजे मुजफ्फरपुर से चली थी. उन्होंने कहा, मैं शुरुआत में पीपराकोठी तक नीचे बैठा था. इसके बाद ऊपर स्लीपर में सोने चला गया और इसके करीब 20 मिनट के बाद यह हादसा हुआ.’ आदित्य ने बताया कि हादसे के दौरान बस पूरी तरह गड्ढे में पलट गई, हालांकि उस वक्त तक बस में आग नहीं लगी थी. उन्होंने कहा कि बस के पलटते ही चीख-पुकार मत गई, लेकिन बस से निकलने का कोई जरिया नहीं था. यात्री ने बताया, ‘बस के दरवाजे बंद थे. बस से निकलना असंभव सा लग रहा था, लेकिन तभी बगल के ढाबे वाले व कुछ स्थानीय लोगों ने पत्थर मारकर बस का शीशा तोड़ दिया.’ आदित्य ने बताया कि किस तरह से उननकी आंकों के सामने बस के साथ लोग भी जल रहे थे.

32 लोगों ने कराई थी बुकिंग 
आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि मुजफ्फरपुर से चली इस बस पर कुल 32 लोगों ने बुकिंग कराई थी तथा मुजफ्फरपुर से कुल 13 लोग सवार हुए थे. शेष लोग आगे सवार होने वाले थे. घटना के बाद ग्रामीणों ने पांच लोगों को बस से सुरक्षित निकाल लिया है.

एक बाइक सवार को बचाने के चक्कर में अनियंत्रित हुई बस
आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि पूर्वी चंपारण के जिलाधिकारी घटनास्थल पर कैम्प कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मृतकों की संख्या सात से अधिक नहीं हो सकती. उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों की मदद से आग पर काबू पा लिया गया है और घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेजा जा रहा है. ग्रामीणों के मुताबिक, एक बाइक सवार को बचाने के क्रम में बस अनियंत्रित होकर गड्ढे में जा गिरी, जिसके बाद उसमें आग लग गई. सूत्रों के मुताबिक, मरने वालों की संख्या बढ़ भी सकती है.

हादसे में मरने वालों की संख्या को लेकर ऊहापोह
गौरतलब है कि पूर्व में आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने इस घटना में 12 लोगों की मौत की पुष्टि की थी. उसके बाद खबर आई कि 24 लोगों की मौत हुई, बाद में संख्या 27 बताई गई. अब सात लोगों की मौत होने की बात कही गई है.

सीएम नीतीश ने जाहिर की संवेदना
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस दुर्घटना में लोगों की हुई मौत पर गहरा दुख एवं संवेदना व्यक्त की है. घटना की जानकारी मिलने पर मुख्यमंत्री ने ज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में एक मिनट का मौन रखकर दुर्घटना में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की. मुख्यमंत्री ने कहा, “बिहार के जो भी लोग इस दुर्घटना में मृत होंगे, उनके परिजनों को नियमानुसार आर्थिक मदद उपलब्ध कराई जाएगी.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.