जांच में फ़र्ज़ी निकला बिहार में 27 यात्रियों की मौत की वजह बनी बस का नंबर

खबरें बिहार की

बिहार के मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही ट्रेवल एजेंसी की बस नेशनल हाईवे 28 पर कोटवा क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्‍त हो गई। पुल से नीचे गिरने के बाद बस में आग लग गई जिससे करीब 27 लोगों की मौत होने की खबर है। इस बस का नंबर उत्तर प्रदेश के इटावा जिले का है। आनन-फानन में नंबर की जांच कराई गई तो ये फर्जी निकला, इससे प्रशासन में हड़कंप मच गया है।

इटावा स्थित परिवहन विभाग के यात्री कर अधिकारी अरविंद कुमार जैसल ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्‍त बस पर लिखा नंबर (यूपी 75 एटी-2312) इटावा का था। बस पर लिखा नंबर मोटर कैब का है, जोकि जांच में फर्जी निकला। नंबर सचेंद्र कुमार सिंह पुत्र अंगद सिंह निवासी नगला रामसुंदर के नाम दर्ज है। यह मोटर कैब श्रेणी का है और गाड़ी महिंद्रा कंपनी की है।

परिवहन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक यह नंबर बस पर कैसे चलाया जा रहा है ये जांच का विषय है। मामले की जांच के बाद ही इस पर कुछ कहा जा सकेगा लेकिन इससे बड़ा खुलासा होने की उम्मीद है। नंबर फर्जी पाए जाने से परिवहन व्यवस्था भी सवालों के घेरे में आने लगी है।

पिछले दिनों इटावा में एक दलाल समेत दो परिवहन अधिकारियों को गिरफ्तार करने के बाद जेल भेजने के मामले के बाद सैकड़ों फर्जीवाड़े सामने आने की उम्मीद लगाई गई थी। इसी क्रम में यह नंबर सामने आया है।

गौरतलब है कि बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के कोटवा थाना क्षेत्र में मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही बस में गड्ढ़े में पलटने के कारण आग लग गई। इससे उसमें सवार करीब 27 लोगों की मौत होने की खबर है। बिहार के आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेश चंद्र यादव ने बताया कि बस एक मोटरसाइकिल को बचाने के चलते अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड्ड में पलट गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.