अश्विनी चौबे, आरके सिंह और नकवी ने ली मंत्री पद की शपथ, JDU को मंत्रिमंडल में नहीं मिली जगह

राष्ट्रीय खबरें

2019 लोकसभा चुनाव के 20 महीने पहले मोदी कैबिनेट में फेरबदल किया जा रहा है। राष्ट्रपति के दरबार हॉल पहुंचने के बाद शपथ ग्रहण शुरू हुआ। सबसे पहले धर्मेंद्र प्रधान ने हिंदी में शपथ ली।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अलावा नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, जेटली और सुषमा समेत सीनियर लीडर्स और कैबिनेट के मेंबर्स प्रोग्राम में मौजूद हैं। कैबिनेट के 9 नए चेहरों में चुनावी राज्यों के लीडर्स के अलावा एक्सपर्ट्स शामिल हैं।

जेडीयू को कैबिनेट में जगह नहीं मिल रही है। नीतीश कुमार ने शनिवार को ही साफ कर दिया था कि फेरबदल को लेकर उनसे कोई बात नहीं की गई है और न ही उनके सांसदों को कोई इन्विटेशन मिला है।

सबसे पहले धमेंद्र प्रधान ने शपथ ली है। उनका प्रमोशन किया गया है। इसके बाद ऊर्जा मंत्री रहे पीयूष गोयल का भी प्रमोशन किया गया है। मुख्तार अब्बास नकवी को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है। नए चेहरों में बिहार के सीनियर बीजेपी लीडर अश्विनी चौबे और पूर्व आईपीएस सत्यपाल सिंह जैसे नाम हैं। शपथ ग्रहण समारोह से पहले नए मंत्रियों से नरेंद्र मोदी के साथ उनके आवास पर चर्चा की।

नए मिनिस्टर्स के नाम सामने आने से पहले ये माना जा रहा था कि जेडीयू और एआईएडीएमके को भी कैबिनेट में जगह दी जाएगी। लेकिन, नीतीश कुमार ने साफ कर दिया कि फेरबदल को लेकर उनसे कोई बात नहीं की गई है और न ही उनके सांसदों को कोई इन्विटेशन मिला है।

2019 के लोकसभा चुनाव के 20 महीने पहले कैबिनेट में फेरबदल हो रहा है। बता दें कि शनिवार तक 8 मंत्री इस्तीफा दे चुके हैं।
ये हैं 9 नए मिनिस्टर्स:
1) अश्विनी कुमार चौबे (बिहार) ()
2) शिव प्रताप शुक्ल (यूपी) ()
3) वीरेंद्र कुमार (मध्य प्रदेश) ()
4) अनंत कुमार हेगड़े (कर्नाटक) ()
5) राजकुमार सिंह (बिहार) ()
6) हरदीप सिंह पुरी (डिप्लोमैट) ()
7) गजेंद्र सिंह शेखावत (राजस्थान) ()
8) सत्यपाल सिंह (यूपी) ()
9) अल्फाेन्स कन्ननथानम (केरल) ()

4 वजह फेरबदल की:

1) लोकसभा चुनाव: इसमें 20 महीने बचे हैं। इसके मद्देनजर बीजेपी, संघ और सरकार के रणनीतिकार फेरबदल में देरी नहीं चाहते। वे चाहते हैं कि सरकार और संगठन को नई टीम मिले, ताकि केंद्र अपने गवर्नेंस की रफ्तार बढ़ा सके और पार्टी संगठन अपनी चुनाव तैयारियों पर फोकस कर सके।

2) 6 राज्यों के चुनाव: गुजरात, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक में अगले डेढ़ साल के अंदर चुनाव हैं। इसके मद्देनजर यह फॉर्मूला तय किया गया है कि जहां चुनाव हो गए हैं, उन राज्यों से मंत्री कम किए जाएं और चुनाव वाले नए चेहरे सरकार में शामिल किए जाएं।

3) परफॉर्मेंस: जिन मंत्रियों का परफॉर्मेंस ठीक नहीं रहा उनकी छंटनी हो सकती है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि सरकार ने अपने मंत्रियों के परफॉर्मेंस का ऑडिट कराया है। इसी ऑडिट रिपोर्ट के हिसाब से मंत्रियों को बदला जाएगा या उनकी छुट्टी की जाएगी।

4) संगठन:सरकार में कुछ चेहरे ऐसे हैं जो संगठन में अच्छा काम कर सकते हैं। ऐसे लोगों को संगठन में वापस भेजा जाएगा।

किसने, कब शपथ ली:
10:44 AM:मुख्तार अब्बास नकवी
10:42 AM: निर्मला सीतारमण
10:40 AM: पीयूष गोयल
10:38 AM: धर्मेंद्र प्रधान
10:38 AM: कैबिनेट मंत्री की शपथ लेने के लिए धर्मेंद्र प्रधान को बुलाया गया। प्रधान ने हिंदी में शपथ ली। जब उन्हें ‘प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से संसूचित’ बोलना था तो वे अटक गए। कोविंद ने ये शब्द दोबारा पढ़े। इसके बाद प्रधान ने शपथ पूरी की। प्रधान अब तक राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे। उन्हें प्रमोट किया गया है। वे पेट्रोलियम मिनिस्टर हैं। गैस सिलेंडरों पर सब्सिडी छोड़ने के लिए गिव अप स्कीम और गरीब महिलाओं को फ्री रसोई गैस कनेक्शन देने वाली ‘उज्जवला स्कीम’ की कामयाबी के बाद वे प्रमोट हुए हैं।

– 10:34 AM: शपथ लेने वाले मंत्रियों की पहली कतार में मुख्तार अब्बास, निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल और धर्मेंद्र प्रधान बैठे थे। इन्हें राज्यमंत्री से प्रमोट करके कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है।
– 10:32 AM: एक अलग कतार में रामविलास पासवान, मेनका गांधी, रविशंकर प्रसाद, अशोक गजपति राजू, हरसिमरत कौर और चौधरी बीरेंद्र सिंह बैठे थे।
– 10:30 AM: स्मृति ईरानी, प्रकाश जावड़ेकर साथ बैठे थे। उनकी पीछे की कतार में राज्यवर्धन सिंह राठौर, मनोज सिन्हा बैठे थे।
– 10:28 AM:मोदी के दाहिनी तरफ अमित शाह, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, थावरचंद गहलोत, कलराज मिश्र, अनंत कुमार और जेपी नड्डा बैठे थे।
– 10:26 AM: मोदी राष्ट्रपति भवन पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.