प्रधानमंत्री जी आपने क्या चूड़ियाँ पहन रखी हैं, कांग्रेसी नेताओं पर कारवाई कर पाकिस्तानी नीति को विफ़ल करिये

अंतर्राष्‍ट्रीय खबरें कही-सुनी राजनीति

मोदी जी आप प्रधानमंत्री हैं, ये बात आप बार-बार भूल क्यों जाते हैं? आप भले ही बीजेपी के नेता हैं, मगर सबसे पहले प्रधानमंत्री। आप जो भी बोलते हैं उसकी गूंज सिर्फ पार्टी, राज्य या देश तक नहीं होती, बल्कि वैश्विक होती है।

हम जैसे युवा, अन्य नेताओं से भले मर्यादित भाषा की उम्मीद न करे, मगर अपने प्रधानमंत्री से तो कर ही सकते हैं। माना कि मणिशंकर अय्यर ने आपको भला-बुरा कहा। इसकी खुद कांग्रेस ने भी भर्तस्ना की। लेकिन क्या उसके बाद आपका जनसभा में ये बोलना कि ‘अय्यर ने पाकिस्तान जाकर आपकी सुपारी दी थी’ जायज है? आप भी नेताओं की तरह अब भावनाओं से क्यों खेलने लगे हैं।

दशकों से नेताओं ने इसी भावना को तो अपना चुनावी हथियार बनाया है। मग़र हमने तो आपको देश के विकास और तरक्क़ी के नाम पर जिताया है। ये हथियार कब से आपके चुनावी शस्त्र हो गए। आप मत भूलिये कि आप प्रधानमंत्री हैं। आप जो बोल रहे हैं वो 125 करोड़ जनता का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिये अगर अय्यर ने आपको मरवाने के लिये पाकिस्तान में सुपारी दी, तो आप हाथ पर हाथ रखकर चुप क्यों हैं। सरकार आपकी है, क्या आप इसकी जाँच नहीं करवा सकते? या इसे हमेशा के लिये चुनावी हथियार बना कर रखेंगे?

आप खुद सोचिये कि विदेशों में कैसी छवि बनेगी कि कोई नेता देश के प्रधानमंत्री की सुपारी देता है और सरकार उसके खिलाफ कुछ नहीं करती। क्या आपने चूड़ियाँ पहन ली हैं। क्या आप एक जाँच आयोग गठित नहीं कर सकते ताकि सच सामने आ जाये कि क्या सच में अय्यर ने ऐसा किया है. क्या हमारे देश का कानून इतना खोखला है कि देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ मौत की साजिश रचने वाले को सज़ा नहीं दिला सकती? मगर आपका इसके खिलाफ कोई एक्शन न लेना और इस साजिश को चुनावी हथियार बना कर पार्टी के हित के लिये इस्तेमाल करना कई सारे सवाल खड़ी करती है।

अगर अब भी आप अपना कद बड़ा करना चाहते हैं और सच में देशहित में सोचते हैं तो आप इसकी जांच बैठाकर दूध का दूध और पानी का पानी कीजिये, मगर ये चुनावी राग अलापना बंद कीजिये।वरना आप में और औरों में कोई अंतर नहीं रह जायेगा।

सादर…

~ शंकर पंडित के फ़ेसबुक वॉल से

Leave a Reply

Your email address will not be published.