मोबाइल पर एनी डेस्क एप लोड करने का कॉल आए तो नहीं दें ध्यान वरना लूट लेंगे साइबर फ्रॉड, पटना की महिला के खाते से उड़ा लिए1.37 लाख

खबरें बिहार की जानकारी

साइबर फ्रॉड ने आपके मेहनत की कमाई पर हाथ डालने के लिए उपयोगी इंटरनेट एप को हथियार बना रहे हैं। बिहार के पटना में एनी डेस्क एप डाउनलोड करवाकर महिला के खाते से साइबर अपराधियों ने 1.37 लाख रुपये उड़ा लिये। पीड़ित महिला गरिमा कुमारी अशोक राजपथ स्थित बांकीपुर पोस्ट ऑफिस के समीप रहती हैं।

पीड़ित महिला ने बताया कि उनको बिजली बिल जमा करना था। इसी बीच क्रेडिट कार्ड से रुपये जमा करने में परेशानी होने लगी। महिला ने तुरंत गूगल से एचडीएफसी बैंक के कस्टमेयर केयर का नंबर निकाला। लेकिन नंबर फर्जी था और फ्रॉड ने महिला को भारी नुकसान पहुंचाया।

 

साइबर अपराधियों ने महिला को पहले लोन देने का झांसा दिया। इसके बाद उन्होंने क्रेडिट कार्ड में परेशानी होने की बात बतायी तो उन्हें दूसरे नंबर से कॉल करने की बात साइबर अपराधियों ने कही। इसके बाद उन्हें दूसरे नंबर से कॉल कर एनी डेस्क एप लोड करने को कहा गया। महिला ने जैसे ही इस एप को डाउनलोड किया उनके खाते से 1.37 लाख रुपये कट गये। मैसेज आने के बाद उन्हें खाते से रुपये निकलने की जानकारी हुई। इस बाबत पीड़िता ने गांधी मैदान थाने में लिखित शिकायत दर्ज करवायी है। साइबर सेल में भी इसकी जानकारी दी गयी है। पुलिस इस मामले में जांच कर रही है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के खाते से उड़ाये 1.15 लाख

 

पटना। कंकड़बाग बैंक मेंस कॉलोनी के रहने वाले एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर के खाते से साइबर अपराधियों ने 1.15 लाख रुपये उड़ा लिये। उनके अकाउंट से दो बार में रुपये निकाले गये हैं। तीन खातों में रुपये को साइबर अपराधियों ने ट्रांसफर किया है। बेंगलुरु स्थित एक निजी कंपनी में काम करने वाले आलोक पिछले कुछ महीनों से वर्क फ्रॉम होम के कारण पटना में ही रहे हैं। खाते से बीते 10 फरवरी को ही रुपये निकले। लेकिन उनके खाते में डेबिट से संबंधित मैसेज नहीं आया। जब वे अपने बैंक में एकाउंट स्टेटमेंट चेक करवाने गये तो रुपये की निकासी का पता चला। शक है कि साइबर अपराधियों ने उनके मोबाइल नंबर को हैक कर लिया था। इस बाबत पीड़ित ने साइबर सेल को लिखित शिकायत दी है।

 

नौकरी का झांसा देकर रुपये उड़ाने की कोशिश

 

पटना। साइबर अपराधियों ने नौकरी का झांसा देकर बेगूसराय के रहने वाले एक छात्र अवधेश कुमार के खाते से रुपये उड़ाने की कोशिश की। दरअसल नौकरी देने के नाम पर छात्र से आधार कार्ड समेत उसके सारे कागजात ले लिये गये। पुराने बैंक अकाउंट के खाते की जानकारी भी साइबर अपराधियों से ले ली गयी। इसके बाद उसके कागजात के जरिये एक निजी बैंक में खाता खुलवाया गया। इस खाते का एटीएम व पासबुक छात्र को नहीं दिया गया। जबकि उसके पुराने खाते से रुपये निकालने की कोशिश की गयी। छात्र की किस्मत ठीक थी कि उस खाते में रुपये नहीं थे। गांधी मैदान थाने की पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.