milk production in bihar

खुशखबरी: दूध के उत्पादन में दूसरे स्थान पर पहुंचा बिहार

खबरें बिहार की

पटना: देश में दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ने तीन योजनाएं शुरू की है. राष्ट्रीय गोकुल मिशन और कामधेनु ब्रीडिंग सेंटर की स्थापना की गयी है.  प्रधानमंत्री ने स्थानीय स्तर पर रोजगार मुहैया कराने के लिए डेयरी प्रसंस्करण एवं अवसंचरणा विकास कोष की स्थापना की और इसके लिए बजट में 10 हजार करोड़ रुपये का आवंटन किया गया. गुजरात में अमूल, बिहार में सुधा, राजस्थान में सरस बेहतर काम कर रहे हैं ।

 

यही कारण है कि आज भारत दूध उत्पादन में सबसे आगे है। गया के भाजपा सांसद हरि मांझी के पूछे गये सवाल के जबाव में केंद्रीय कृषि एवं कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने यह जानकारी दी। नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने अच्छी नस्ल के पशुओं के खरीद के मौजूदा मानक में बदलाव करने की योजना के बारे में जानकारी मांगी. इसके जबाव में कृषि मंत्री ने कहा कि नाबार्ड के माध्यम से पशु पालकों को मजबूत करने की कोशिश लगातार जारी है।





बक्सर के भाजपा सांसद अश्विनी चौबे ने डुमरांव में पशुपालन केंद्र के साथ डेयरी खोलने के प्रश्न के जबाव में राधामोहन  सिंह ने कहा कि दूध उत्पादन के मामले में गुजरात पहले स्थान पर है, लेकिन बिहार ने इस क्षेत्र में काफी तरक्की की है और वह इस मामले में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है. राज्य सरकार के प्रयासों से बिहार का सुधा दुग्ध उत्पाद दूसरे स्थान पर आ गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *