पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में PM की रैली में गिरे टेंट के लिए ममता सरकार जिम्मेदार, 5 किलोमीटर तक कोई पुलिसवाला भी नहीं था

राष्ट्रीय खबरें

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में पीएम मोदी की रैली के दौरान टेंट गिरने की घटना पर केंद्र की रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट में हादसे के लिए ममता सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया गया है. रिपोर्ट में ऐसी बातें सामने आई हैं कि पीएम की सुरक्षा में कई दरारें थीं. जांच रिपोर्ट में कहा गया कि रैली स्थल के पांच किलोमीटर तक पुलिस नहीं थी, साथ ही एसपीजी को भी पूरी मदद नहीं मिली.

बता दें कि 17 जुलाई को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में हुए पीएम की रैली के दौरान पंडाल गिरने से कम से कम 90 लोग घायल हुए थे. गृह सचिव हालांकि रिपोर्ट की संवेदनशील प्रकृति को देखते हुए उसके निष्कर्षों पर बात करने से इनकार कर दिया.

सरकारी सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया कि जांच रिपोर्ट में बंगाल सरकार को कई मामलों पर दोषी ठहराया गया है. जांच रिपोर्ट के अनुसार टेंट की ठीक से जांच नहीं हुई. टेंट के खंबों में चार स्क्रू की जगह एक स्क्रू लगे थे और पाइपों में कई जगह जंग भी लगा था. रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि राज्य सरकार ने ब्लू बुक फॉलो नहीं की. इसके अलावा यह भी बात सामने आई है कि SPG को संसाधन नहीं दिए गए.

रिपोर्ट में कहा गया कि मिदनापुर में जब PM मोदी रैली को संबोधित कर रहे थे तब पांच किमी तक कोई पुलिसवाला नहीं था. यही नहीं जो पोल थे उसपर लोग चढ़ गए थे, उसे उतारने वाला भी कोई नहीं था. हालांकि कि रोचक बात यह है कि ममता सरकार ने पुलिस और स्टेट प्रशासन को क्लिनचीट दे दी है. ममता का कहना है कि पीएम की सुरक्षा की पूरी जिम्मेदारी एसपीजी (SPG) की होती है न की लोकल पुलिस की. हालांकि एसपीजी इस दावे पर बहस कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.