मेक्सिको के प्रांत चिहुआहुआ के कुयाटेमोक में अधिकारियों के दिव्यांगों के प्रति दुर्व्यवहार की जांच का जिम्मा खुद मेयर ने उठाया। वे दो महीने तक दिव्यांग के भेष में विभाग में रहे । दिव्यांग के गेटअप के लिए मेयर कार्लोस कभी काला चश्मा लगाते, कभी हैट पहनते, कभी कानों पर बैंडेज बांधकर घूमते।कभी किसी काम के बहाने वे स्वेटर पहनकर पहुंच जाते।कई बार खाना भी मांगा, लेकिन लोगों ने उनके साथ भेदभाव किया। सिर्फ एक-दो ऑफिस में कुछ अधिकारियों ने ईमानदारी से काम किया।

 मेयर कार्लोस टेना इन 60 दिनों में शहर के हर विभाग में गए। इस दौरान उन्हें खुद अपमानित होना पड़ा। बाद में उन्होंने सभी अधिकारियों को उनकी कार्यशैली के फटकार लगाई।दरअसल, कार्लोस के पास लंबे समय से दिव्यांगों की शिकायतें आ रही थीं कि कोई भी काम करवाने के लिए विभाग में उनके साथ बुरा व्यवहार होता है।

कार्लोस ने बताया, “मेरे इस एक्सपेरीमेंट का उद्देश्य उन मुश्किलों का अनुभव करना था, जो आम लोग रोज भुगतते हैं। मैं नहीं जानता था कि लोगों की शिकायतों पर भरोसा करूं या अपने सहकर्मियों पर। मैं लंबे समय में दिव्यांगों को उनका हक दिलाने की कोशिश में लगा हूं। यह नहीं जानता था कि मेरे ही सहकर्मी उनके साथ दुर्व्यवहार करेंगे। उम्मीद करता हूं कि आगे से दिव्यांगों की शिकायत नहीं मिलेगी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here