माता-पिता का अभिमान बन गईं बिहार के सारण जिले की वर्दी वाली सात बहनें

कही-सुनी

बिहार के सारण जिले के एकमा गांव की वर्दी वाली सात बहनें उदाहरण हैं साकार होती उस परिकल्पना का, जहां नारी सशक्तीकरण की सिर्फ बातें नहीं, गांव-गांव साकार होता सच हो। एकमा के राजकुमार सिंह की आजीविका का साधन आटा चक्की है। बहुत सामान्य आर्थिक स्थिति और घर में सात बेटियों के बाद एक बेटा। घर-परिवार का भी जोर कि जल्दी से हाथ पीले कर दो, सात-सात को निभाना है, पर न बेटियां झुकीं और न ही पिता। सब बेटियों ने एक-एक कर वर्दी पहनी और राज्य पुलिस बल व अद्र्ध सैन्य बल में समाज और देश की सेवा कर रही हैं। एक अति सामान्य परिवार की लड़कियों ने स्वयं की जिद को साबित कर दिया।

बड़ी बहन रानी और उनसे छोटी रेणु ने वर्दी पहनने को गांव में ही दौड़ लगानी शुरू की। ताने नजरअंदाज करआगे बढ़ती गईं। वर्ष 2006 में रेणु का सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) में कांस्टेबल पद पर चयन हो गया। अन्य छह बहनों का हौसला बढ़ा। इधर, बड़ी बहन रानी शादी के बाद 2009 में बिहार पुलिस में कांस्टेबल चुन ली गईं। इसके बाद अन्य पांच बहनें भी विभिन्न बल में नियुक्त हो गईं। बहनें ही एक-दूसरे की शिक्षक और गाइड बनीं। गांव के ही स्कूल में पढ़ीं। स्वाध्याय व अभ्यास की बदौलत नौकरियां हासिल कीं। आज सातों बेटियां मैट्रिक पास पिता राजकुमार सिंह उर्फ कमल सिंह और आठवीं पास मां शारदा देवी का अभिमान हैं। इन बहनों से प्रेरणा व टिप्स लेकर प्रखंड के हंसराजपुर, एकमा, भरहोपुर, साधपुर राजापुर की दर्जनों लड़कियां पुलिस सेवा में चुनी जा चुकी हैैं।

कुमारी रानी सिंह बताती हैं कि मैट्रिक की परीक्षा के दौरान ड्यूटी पर लगी महिला दारोगा को देखकर पुलिस सेवा में जाने का मन बनाया। यही हम सात बहनों का टर्निंग प्वाइंट बना। वे इस समय बिहार स्पेशल आम्र्ड पुलिस, रोहतास में तैनात हैं। कुमारी पिंकी सिंह भी वहीं हैं। कुमारी रानी सिंह बीएमपी रोहतास, कुमारी रेणु सिंह एसएसबी गोरखपुर, कुमारी सोनी सिंह सीआरपीएफ दिल्ली, कुमारी प्रीति सिंह क्राइम ब्रांच जहानाबाद, कुमारी रिंकी सिंह एक्साइज पुलिस सिवान और कुमारी नन्ही सिंह जीआरपी पटना में तैनात हैं। रानी, रेणु और कुमारी सोनी की शादी हो चुकी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.