गेंदे के फूलों की चाय पीने के फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे आप

Health

गेंदे के फूलों का इस्तेमाल आपने मंदिर में, पूजा के लिए और त्योहारों शादियों में घर सजाने के लिए करते देखा होगा। इसकी खुशबू काफी अच्छी होती है। इसके अलावा गेंदे के फूल का इस्तेमाल त्वचा और बालों की खूबसूरती बढ़ने के लिए भी किया जाता है। लेकिन क्या कभी आपने गेंदे के फूल की चाय पी है है? अगर आपको गेंदे की मनभावन खुशबू काफी पंसद है तो ये जरूर पियें। इसके फूल से बनी चाय आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

इन फूलों में एंटी-इंफ्लेमेटरी क्वालिटी होती हैं। ये फूल विशेष रूप से ट्यूमर को रोकने और साइटोटॉक्सिक प्रभावों के लिए जाने जाते हैं।

गेंदे के फूल में मौजूद तत्वों से कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है। गेंदे के फूल में फ्लेवोनोइड्स नामक तत्व मौजूद रहता है। इस तत्व से कोलन कैंसर, ल्यूकेमिया और मेलेनोमा को रोकने का अच्छा स्रोत माना जाता है। गेंदे के फूल की चाय पीने से कैंसर के खतरे को काफी हद तक कम करने में मदद मिलती है।

गेंदे के फूलों की चाय को हल्‍का ठंडा कर लें और उससे कुल्ला करें। चाय को थोड़ी देर प्रभावित वाले दांत पर रख लें और 15 सेकंड बाद वह पानी थूक दें। ऐसा करने पर दांत दर्द में आराम मिलेगा। साथ ही अन्य इंफेक्‍शन से भी बचा जा सकेगा।

मासिक धर्म के दौरान लड़कियों और महिलाओं को कई तरह की परेशानी होती है। ऐसे में गेंदे के फूल की चाय का सेवन करने से पीरियड्स में आराम मिलता है। गैस्ट्राइटिस, एसिड रिफ्लक्स और अल्‍सर के इलाज को कम करने में भी मददगार होता है।

गेंदे के फूल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एसपीएफ त्वचा की क्षति को कम कर सकते हैं और स्किन तेजी से हील होती है। ऐसा करने से त्वचा संबंधित परेशानियों से छुटकारा मिलेगा। इसके नियमित सेवन से पिंपल, एक्‍ने आदि से छुटकारा मिलता है और चेहरे का ग्लो बढ़ता है।

गेंदे के फूल से बनी चाय पीने से तनाव कम होता है। इसमें ट्राइटरपेंस, फ्लेवोनोइड्स, पॉलीफेनोल्स और कैरोटेनॉइड्स मुख्‍य रूप से मौजूद होते हैं। यह चाय पीने से सूजन, मोटापा और टाइप 2 मधुमेह आदि को कंट्रोल किया जा सकता है.

इस तरह बनाएं गेंदे के फूल की चाय:

इसे बनाने के लिए 2 ग्लास पानी को गैस पर उबलने के लिए रखें. इसमें गेंदे के फूलों की पंखुड़ियां डालें. पानी को अच्छी तरह से उबलने दें और कम से कम 5 मिनट तक इसे ढककर धीमी गैस पर उबलने दें. अब जब पानी अच्छी तरह उबल जाए तो गेंदे की पंखुड़ियों का रंग पानी में दिखने लगेगा. इसे तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा न रह जाए. गैस बंद कर दें और इसमें शहद डालकर पीएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.