मंटू शर्मा हत्याकांड में हिरासत में लिए गए दो संदिग्ध, धनबाद से जुड़े तार; शक के घेरे में कई नाम

खबरें बिहार की जानकारी

फुलवारीशरीफ थाना क्षेत्र के न्यू सबजपुरा इलाके में बीएसएपी-16 के समीप घर में घुस कर जमीन कारोबारी राजीव सिंह उर्फ मंटू शर्मा की हत्या और उनके पिता सुधीर शर्मा व भाई संजीव शर्मा को गोली मारकर घायल करने के मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की विशेष टीम गठित की गई है। टीम ने मुख्य आरोपित सन्नी यादव की तलाश में दानापुर और दीघा इलाके से दो संदिग्ध युवकों को हिरासत में लिया है। वहीं, उनके पास मिले संदिग्ध मोबाइल नंबर के आधार पर तीन पुलिसकर्मियों की टीम झारखंड के धनबाद रवाना हो गई है। बताया जाता है कि कुछ साल पहले सन्नी ने धनबाद में फायरिंग की थी, जिसके बाद झारखंड पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। वहां के ठिकाने और उसके साथियों की पहचान के लिए पुलिस झारखंड गई है।

बेउर जेल में बंद तीन कैदियों से होगी पूछताछ

पुलिस मामले को पहले भूमि विवाद से जोड़ कर देख रही थी, लेकिन बेउर जेल से हत्याकांड के तार जुड़ने के बाद नई कहानी सामने आ रही है। देवघर सिविल कोर्ट में बेउर जेल के बंदी अमित सिंह की पेशी के दौरान हत्या किए जाने के प्रतिशोध में मंटू शर्मा को मारने की जानकारी पुलिस को मिली है। सन्नी बेउर जेल में कैद रहने के दौरान तीन बंदियों का करीबी था। इनमें दो बक्सर के रहने वाले हैं। वहीं, अमित सिंह के पिता पप्पू सिंह भी वर्तमान में बेउर जेल में बंद हैं। एक कैदी राइटर का भी नाम सामने आया है। संभव है कि शुक्रवार को पुलिस बेउर जेल के तीन कैदियों से पूछताछ कर सकती है। एसएसपी डा. मानवजीत सिंह ढिल्लों ने बताया कि सन्नी की गिरफ्तारी के बाद हत्या का कारण स्पष्ट हो पाएगा।

शोक संतप्त स्वजनों से मिले पप्पू यादव

जनाधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व सांसद राजीव रंजन उर्फ पप्पू यादव ने गुरुवार को मंटू शर्मा के शोक संतप्त स्वजनों से मुलाकात की और ढांढ़स बंधाया। उन्होंने कहा कि राज्य में आए दिन घटनाएं हो रही हैं। अपराधियों का बोलबाला है। जब बीएमपी के बगल में रहने वाले सुरक्षित नहीं हैं तो अब भगवान भी लोगों की सुरक्षा नहीं कर सकते। पप्पू यादव ने कहा कि शराब से मौतों को मुद्दा बनाने वाले लोग आखिर इस तरह की जघन्य हत्या पर चर्चा क्यों नहीं करते? मंटू शर्मा हत्याकांड को लेकर सदन में आवाज उठनी चाहिए थी।

सामाजिक कार्यों में रुचि लेते थे मंटू

गुरुवार को भी शोकाकुल स्वजनों से मिलने आने वाले लोगों की भीड़ मंटू शर्मा के घर पर देखने को मिली। बिहटा, नौबतपुर और आसपास के क्षेत्रों से काफी लोग उनके घर आए थे। कई लोग मंटू शर्मा के स्वजनों का कुशलक्षेम लेने घर और अस्पताल पहुंचे। लोगों का कहना है कि मंटू शर्मा सामाजिक कार्यों में अधिक रुचि लेते थे। उनके विरुद्ध एक भी मुकदमा दर्ज नहीं है।

फायरिंग में जख्मी पिता का अस्पताल में चल रहा इलाज

फुलवारीशरीफ में मंगलवार को फायरिंग में मंटू शर्मा की मौत हो गई थी। भूलवश उनके पिता सुधीर शर्मा के संबंध में गलत जानकारी प्रकाशित हो गई थी। फिलहाल वह अस्पताल में भर्ती हैं। जागरण परिवार उनके जल्द स्वस्थ होने और दीर्घायु की कामना करता है। पाठकों को हुई असुविधा के लिए खेद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.