उत्तर भारत की प्रसिद्ध मणिमहेश यात्रा आधिकारिक रूप से शुरू होने से पूर्व ही श्रद्धालु भगवान भोले के भरोसे यात्रा पर निकल रहे हैं। आधिकारिक रूप से यात्रा 24 अगस्त से शुरू होकर सात सितंबर तक चलेगी। हालात यह हैं कि अभी तक स्वास्थ्य जांच के लिए न तो कोई शिविर लगा है और न ही सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मी तैनात हैं। प्रशासन की ओर से यात्रा से कुछ दिन पूर्व व्यवस्था की जाती है, मगर अभी श्रद्धालु अपने जोखिम पर ही यात्रा कर रहे हैं। इन श्रद्धालुओं को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा भी कोई पुख्ता प्रबंधन नहीं किए गए हैं।

पिछले दो साल में यात्रा से पूर्व मणिमहेश जाते समय पांच से अधिक श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। जबकि इस साल अभी तक मणिमहेश के साथ कमल कुंड में एक श्रद्धालु का शव बरामद हुआ है। वहीं लाहुल-स्पीति से मणिमहेश यात्रा पर निकले एक दल डुल्ली नाले में फंस गया। ऐसे में उनकी जान आफत में फंस गई। गनीमत यह रही कि मणिमहेश एडवेंचर एजेंसी का दल नाले के समीप मौजूद था, यदि ऐसा न होता तो कोई अनहोनी भी हो सकती थी। भरमौर से भी यात्री हर दिन मणिमहेश के लिए रवाना हो रहे हैं। करीब एक हजार यात्री रोजाना भरमौर सहित मणिमहेश पहुंच रहे हैं। इससे भरमौर मुख्यालय में जाम जैसी स्थिति उत्पन्न होना शुरू हो गई है। वहीं प्रशासन द्वारा भी अधिकारिक तौर पर यात्रा शुरू होने से पहले तैयारियां युद्धस्तर पर की जा रही हैं। 

यात्रा के दौरान वाहन पार्किंग, सहित रास्ते की मरम्मत, पानी की व्यवस्थाओं से लेकर अन्य व्यवस्थाओं को प्रशासन को यात्रा शुरू होने से पूर्व ही पूरा करना होगा। छोटा न्हौण 24 अगस्त को होगा, जबकि बड़ा न्हौण सात सितंबर को होने के बाद यात्रा बंद हो जाएगी। मणिमहेश यात्रा पर जाने का सिलसिला धीरे-धीरे बढ़ने लगा है। ऐसे में यात्रा शुरू होने से पूर्व है हजारों श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाने की उम्मीद है। अंकित शर्मा, बीएमओ भरमौर। ने कहा कि मणिमहेश यात्रा को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। दवाओं का स्टॉक हड़सर पहुंचा दिया है। वहां से आगे घोड़े-खच्चरों पर दवाएं भेजी जाएंगी।   

लोक निर्माण विभाग ने छह अस्थायी पुलियां तैयार करवा दी हैं। कार पार्किंग का कार्य हड़सर में किया जा रहा है। यात्रा शुरू होने से पहले इसे तैयार किया जा रहा है ताकि श्रद्धालुओं को दिक्कत न हो।

-इंद्र्र सिंह उत्तम, अधिशाषी अभियंता, लोक निर्माण विभाग, भरमौर।

प्रशासन को व्यवस्थाओं के लिए निर्देश दे दिए हैं, यदि समय पर व्यवस्थाएं पूरी न की तो कार्रवाई की जाएगी। यातायात के लिए पुलिस को समय पर बुलाया जाएगा। अतिरिक्त पुलिस दल भी बुलाया जाएगा।

-जियालाल कपूर, विधायक।

दस स्वास्थ्य शिविर लगेंगे

स्वास्थ्य विभाग इस बार मणिमहेश यात्रा के दौरान दस स्वास्थ्य शिविर लगाएगा। शिविर हड़सर से मणिमहेश तक विभिन्न स्थानों पर  लगाए जाएंगे। शिविर लगाने के लिए विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। पार्किंग का कार्य जोरों पर इस बार हड़सर में वाहनों की अस्थायी पार्किंग का निर्माण लोक निर्माण विभाग की ओर से किया जा रहा है। इस बार पार्किंग को थोड़ा और बड़ा करने की कोशिश की जा रही है।

अभी तक पांच हजार श्रद्धालुओं के यात्रा करने का अनुमान

मणिमहेश यात्रा के लिए अभी तक प्रशासन ने कोई व्यवस्था नहीं की है लेकिन श्रद्धालुओं की आस्था चरम पर है। बिना किसी स्वास्थ्य व आपात सुरक्षा के ही श्रद्धालु मणिमहेश पहुंच रहे हैं। अब तक कितने यात्री स्नान कर चुके हैं। इस बारे में किसी के पास कोई लिखित जानकारी तो नहीं है। लेकिन पुजारियों तथा मणिमहेश व भरमाणी मंदिरों के पास दुकानें चलाने वाले व्यापारियों के अनुसार अब तक करीब पांच हजार लोग यात्रा कर चुके हैं।

ज्योतिष पंडित ईश्वर दत्त शर्मा बताते हैं कि अब श्रद्धालु जन्माष्टमी स्नान के अलावा रक्षा बंधन पर भी स्नान करने पहुंच रहे हैं। व्यापार मंडल भरमौर के पूर्व उपाध्यक्ष कर्ण शर्मा ने पुलिस अधीक्षक से मांग की है कि भरमौर में ट्रैफिक व्यवस्था संभालने के लिए अतिरक्त पुलिस दल तैनात किया जाए ताकि लोगों को समस्या का सामना न करना पड़े। भरमौर में बढ़ती गाड़ियों तथा लोगों की संख्या को ध्यान में रखते हुए जल्द प्रशासन पुख्ता प्रबंध करे। 

अमरनाथ यात्रा पर रोक से उमड़े भक्त

जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ यात्रा पर लगी रोक के चलते इस बार मणिमहेश यात्रा में शिवभक्तों का सैलाब उमड़ने लगा है। इसी को मद्देनजर रखते हुए उपमंडल प्रशासन और मणिमहेश न्यास यात्रा के प्रबंधों को मूर्तरूप देने में जुटा हुआ है। जम्मू-कश्मीर में बड़े आतंकी हमले की आशंका के चलते सरकार ने अमरनाथ यात्रा को बीच में ही रोक दिया था और यात्रियों को बीच राह से ही लौटने के आदेश जारी कर दिए थे, जिसके बाद से ही मणिमहेश यात्रा की ओर आने वाले यात्रियों की संख्या में भी इजाफा होने लगा है। मौजूदा समय में यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि जन्माष्टमी से राधाष्टमी तक आधिकारिक तौर पर चलने वाली यात्रा के दौरान भरमौर में भारी तादाद में शिवभक्त पहुचेंगे। एडीएम भरमौर एवं मणिमहेश न्यास अध्यक्ष पृथी पाल सिंह ने कहा कि यात्रा के लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। पहले की अपेक्षा अधिक संख्या में श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है।

Sources:-Dainik Jagran

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here