मनीषा दयाल के ‘आसरा’ से खिड़की का ग्रिल तोड़ कर भागी संवासिन, पुलिस ने पकड़ा

खबरें बिहार की

पटना: पटना के बेउर जेल में बंद मनीषा दयाल के आसरा शेल्टर होम से संवासिनों के भागने का सिलसिला अभी भी जारी है। आसरा शेल्टर होम से एक और 21 वर्षीय संवासिन देर रात निकल भागी , जिसकी सूचना पुलिस को सही समय पर सुबह साढ़े तीन बजे मिल गयी। संवासिन को आधे घंटे के अंदर सकुशल बरामद कर लिया। उक्त संवासिन गूंगी है। संवासिन से संकेतों के जरिये पूछताछ की जा रही है।

कुछ दिनों पहले ही उसे शेल्टर होम में लाया गया था। मिली जानकारी के अनुसार कि वह तीसरे तल्ले पर एक सहयोगी के साथ कमरे में रहती थी । रविवार देर रात एक बजे से तीन बजे के बीच में खिड़की के ग्रिल को तोड़ दिया । और बेड शीट का रस्सी बना कर शेल्टर होम के पीछे वाले हिस्से में उतर गयी। हालांकि उतरने में उसके पांव में भी चोट आई। उसके भागने की भनक होम के गेट व पहले तल्ले पर मौजूद पुलिसकर्मियों को भी नहीं लगी। पहले तल्ले पर महिला सिपाही की तैनाती है। गेट पर राजीव नगर थाने का एक कॉन्सटेबल पहरा देता है।

उस कमरे में रहने वाली दूसरी संवासिन जब भागने में असफल रही तो उसने अधीक्षिका को भागने की जानकारी दे दी। इसके बाद राजीव नगर पुलिस को मामले की जानकारी दी गयी। सिटी एसपी मध्य अमरकेश डी ने संवासिन के मिलने की जानकारी दी और बताया कि उससे पूछताछ की जा रही है।

भागने की सूचना मिलते ही राजीव नगर थाने के साथ पाटलिपुत्र, शास्त्रीनगर थाने की पुलिस भी संवासिन को खोजने के लिए निकल गयी। इसी बीच राजीव नगर थाने की पुलिस को आसरा होम से सटी एक पतली गली में चेकिंग के दौरान वह मिल गयी। वह अपना मुंह छुपाये वहां बैठी थी। चूंकि उसे चोट लगी थी, जिसके कारण वह आगे नहीं बढ़ पा रही थी।

आसरा होम प्रशासन के अनुसार रात साढ़े 12 बजे चेकिंग की गयी थी। लेकिन तब सब कुछ सामान्य था। तीसरे तल्ले पर एक कमरे में दो संवासिनें रहती थीं और उन दोनों ने भागने का पहले से ही प्लान बनाया था। इसके बाद उन लोगों ने किसी तरह से दिन में ही कोई औजार से ग्रिल को कमजोर कर दिया था। इसके बाद बेड शीट का सहारा लेकर नीचे उतर गयी। आसरा शेल्टर होम होम से जुड़े चिरंतन व मनीषा दयाल गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके हैं। अभी मामला थमा भी नहीं था कि दो संवासिनों के भागने की बात सामने आयी।

Source: Live Bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published.