लुधियाना हादसे में मरे लोगों को मुआवजा का ऐलान, सीएम नीतीश ने जताया दुख

जानकारी

पंजाब के लुधियाना में मंगलवार देर रात झोपड़ी में लगी आग से समस्तीपुर के रोसड़ा के एक ही परिवार के सात लोग जिंदा जल गए। परिवार डंपिंग यार्ड में झोपड़ी बना कर रह रहा था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सात लोगों की मृत्यु पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है और इस घटना को अत्यंत दुखद बताया है।’

मुख्यमंत्री ने दुख की इस घड़ी में मृतक के परिजनों को धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। दूसरी ओर, श्रम संसाधन विभाग मजदूरों के निकटतम परिजनों को एक-एक लाख रुपए देगा। प्रवासी मजदूर दुर्घटना अनुदान योजना के तहत मजदूरों के निकटतम परिजनों को यह राशि दी जाएगी। अधिकारियों के अनुसार मृतकों के शव को लाने के लिए विभागीय स्तर पर कोशिश जारी है। श्रम संसाधन के अधिकारी पंजाब के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समन्वय बनाए हुए हैं। राज्य सरकार के स्तर पर ही मृतकों का शव बिहार लाया जाएगा।

परिवार में बड़ा बेटा राजेश ही बचा, 29 अप्रैल को गांव में होनी थी उसकी शादी

पंजाब के लुधियाना में मंगलवार देर रात झोपड़ी में लगी आग से समस्तीपुर के रोसड़ा के एक ही परिवार के सात लोग जिंदा जल गए। परिवार डंपिंग यार्ड में झोपड़ी बना कर रह रहा था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सात लोगों की मृत्यु पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है और इस घटना को अत्यंत दुखद बताया है।

मुख्यमंत्री ने दुख की इस घड़ी में मृतक के परिजनों को धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है। दूसरी ओर, श्रम संसाधन विभाग मजदूरों के निकटतम परिजनों को एक-एक लाख रुपए देगा। प्रवासी मजदूर दुर्घटना अनुदान योजना के तहत मजदूरों के निकटतम परिजनों को यह राशि दी जाएगी। अधिकारियों के अनुसार मृतकों के शव को लाने के लिए विभागीय स्तर पर कोशिश जारी है। श्रम संसाधन के अधिकारी पंजाब के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ समन्वय बनाए हुए हैं। राज्य सरकार के स्तर पर ही मृतकों का शव बिहार लाया जाएगा।

परिवार में बड़ा बेटा राजेश ही बचा, 29 अप्रैल को गांव में होनी थी उसकी शादी

मृतकों में रोसड़ा थाना क्षेत्र के बाघोपुर निवासी सुरेश सहनी (55), उनकी पत्नी रोशनी देवी उर्फ अरुणा (52), पुत्री राखी कुमारी (15), मनीषा कुमारी (10), गीता कुमारी (08), चंदा कुमारी (05) और पुत्र सन्नी कुमार (02) शामिल हैं। घटना के वक्त पूरा परिवार झोपड़ी में सो रहा था। आग ने झोपड़ी को इतनी तेजी से चपेट में ले लिया कि परिवार के किसी सदस्य को भागने तक का मौका नहीं मिला। परिवार में अब केवल बड़ा बेटा राजेश बच गया है। राजेश अपने दोस्त के घर गया हुआ था। राजेश की 29 अप्रैल को गांव से शादीहोनी थी। पूरा परिवार बुधवार को लुधियाना से रोसड़ा के लिए ट्रेन पकड़ने वाला था।

बुधवार सुबह हादसे की खबर मिलते ही सुरेश के गांव बाघोपुर व ससुराल हसनपुर थाना क्षेत्र के शासन में कोहराम मच गया। पूरे परिवार में जिंदा बचे सुरेश सहनी के बड़े पुत्र राजेश ने बताया कि घटना की जानकारी पड़ोस के लोगों ने उसे दी। वह जब तक पहुंचा तब तक आग भयावह हो चुकी थी। आस-पड़ोस के लोग आग पर काबू पाने का प्रयास कर रहे थे। आग की लपटें काफी तेज थीं। इस दौरान स्थानीय टिब्बा थाने की पुलिस पदाधिकारी व अग्निशमन दस्ता भी पहुंच चुका था। काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया, पर तब तक पूरा परिवार जलकर खाक हो चुका था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.