सत्ता से होता प्यार तो हम भी कर लेते भाजपा से समझौता: तेजस्वी

राजनीति

पटना:  अगर सत्ता प्यारी होती तो हम भी भाजपा से समझौता कर लेते। जहां गरीबों को सम्मान व उनका हक नहीं मिले, वैसी कुर्सी हमें नहीं चाहिए। राजद गरीबों के हित के लिए संघर्ष करता रहा है व करता रहेगा। ये बातें सूबे के पूर्व डिप्टी सीएम व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मंगलवार को शहर के मिंज स्टेडियम में कहीं। वे यहां संविधान बचाओ न्याय यात्रा के दूसरे चरण में एक जन सभा को संबोधित कर रहे थे।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि ऐसा कोई सगा नहीं है जिसको चाचाजी ने ठगा नहीं है। उन्होंने जनादेश पर डाका डाला है। महागठबंधन को जनता का समर्थन मिला था। जनता से भाजपा के विरोध में वोट डाला था। लेकिन, नीतीश जी ने सत्ता के लिए जनादेश का अपमान कर उसी भाजपा से हाथ मिला लिया।

उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग संविधान को खत्म करना चाहते हैं। दलितों, महादलितों व असहायों को न नौकरी मिलेगी और न बड़े कॉलेजों में एडमिशन मिलेगा। भाजपा संविधान को खत्म कर देश में आरएसएस के कानून को लागू करना चाहती है। भाजपा के लोग यह जानते थे कि लालू बाहर रहेंगे तो संविधान से छेड़छाड़ संभव नहीं है।

इसलिए एक साजिश के तहत केस-मुकदमा कर उन्हें जेल में डाल दिया गया। लेकिन, लालू जी डरनेवाले नहीं हैं। वे शेर हैं और गीदड़ भभकी से नहीं डरेंगे। वहीं जब लालू जी नहीं डरें तो उनके बेटों, बेटियों व रिश्तेदारों पर झूठा केस कर फंसा दिया गया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि सूबे में अपराध, बलात्कार व महिलाओं पर अत्याचार चरम पर है। शराब की होम डिलेवरी हो रही है। बिहार में राक्षस राज आ गया है।

सभा की अध्यक्षता राजद जिलाध्यक्ष रेयाजुल हक राजू ने की और संचालत प्रधान महासचिव इम्तेयाज अली भुट्टो ने किया। सभा को राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, बरौली विधायक मो. नेमातुल्लाह, पूर्व मंत्री आलोक मेहता, पूर्व मंत्री शिवचंद्र राम, युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष कारी शोएब व दलित प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार साधु आदि ने संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.