लोक सभा चुनाव लड़ेंगे तेजप्रताप, दिल्ली में बैठकर लालू की राजनीतिक विरासत को बढ़ाएंगे आगे

राजनीति

पटना: कृष्णावतार’ तेज को सारण से ‘ईश्क’ हो गईल बा, 2019 मे बंशी यहीं बज सकती है. राबड़ी देबी के तीन भाईयों में से एक ने एक बार मेरे को बताया था कि ‘मेरा भगीना तेजप्रताप जिस वस्तु को हासिल करने की जिद करता है वह हासिल कर लेता है. बचपन में वह बैटरी वाला जहाज के लिए बहुत जिद करता था.’प्रमाणिक है कि बालपन का ‘जिद’ लालू यादव के जेष्येठ लाल के जिस्म में अब भी हिलती-डुलती रहती है. समय समय पर शंख फूंकन पुत्र द्वारा की गई उचित-अनुचित मांग को परिवार के अग्रज बाध्य होकर मानते रहे हैं. बहरहाल, बिहार विधान परिषद में विपक्ष की नेत्री राबड़ी देबी की दुलरूआ पुत्र की ‘भजन मंडली’ से छनकर आ रही खबरों पर यकीन किया जाए तो ‘कृष्णवतार‘ तेजप्रताप यादव की चाहत है कि सारण लोकसभा में धुनी रमाकर 2019 में बंशी बजाएं.

सारण लोकसभा के चैराहों पर भी इस बात की मुहां-मुहीं व कन-फुंकउल भी शुरू हो गईल है कि तेजप्रताप यहां से चुनाव फाइट करने का मन बना रहे हैं. छात्र राजद से ताल्लुक रखने वाला एक नेता ने बताया कि ‘पिछले 13 सितम्बर को तेजप्रताप यादव लोक नायक जय प्रकाश नारायण की जन्मभूमि सिताब दियरा का विजिट किए थे. ‘अवतारी’ बेटे ने जेपी से अपनी विजय के लिए आर्शीवाद मांगा. किस लड़ाई में विजय के लिए? इसका भनक नहीं हुआ. पर, तभी से हमलेाग शक कर रहें हैं कि जरूर कोई गुढ़ बात है.’

उस नेता का कहना है कि ‘तेजप्रताप यादव से जब कार्यकर्ताओं ने उनकी मंशा को चुनाव से जोड़कर कनफुसकी किया तो बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ने आंख तरेर लिया. बाद में पत्रकारों से बातचीत में तेजप्रताप यादव ने कहा कि ‘मैं सिताब दियरा से जेपी मूवमेंट की तर्ज पद एलपी यानी लालू प्रसाद मूवमेंट शुरू करने की योजना बना रहा हूं ताकि पूरे देश से बीजेपी को हटाया जा सके.’उन्होंने आगे कहा कि ‘मैं छात्र राजद देखता हूं. इस संगठन के सदस्यों ने एसपी मूवमेंट की शुरूआत पटना से सिताब दियरा तक पदयात्रा करके की.’

पता चला है कि लालू यादव के इस होनहार पुत्र की मंशा है कि सारण से जीतकर लोकसभा में जाउं और अपने काबिलियत से ब्रम्हांड को बता दूं कि मैं भी किसी से कम नहीं हूं. मेरे में भी नेतृत्व करने की क्षमता है. रण्नीति के तहत तेजप्रताप यादव की इच्छा है कि उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय सारण लोकसभा से राजद की कैन्डीडेट बनें. लेकिन ये संभव नहीं है क्योंकि मैडम का उम्र चुनाव तक 25 वर्ष से कम रहेगा.’ सनद रहे कि ऐश्वर्या राय ेका डेट आॅफ बर्थ 10 फरवरी 1995 है.

दरअसल ‘अध्यात्मिक’ मिजाज के तेजप्रताप यादव सारण लोकसभा को अपना खानदानी सीट मानते हैं. वो समर्थकों के बीच कहते हैं कि उनके पिता लालू यादव ने अपनी संसदीय पारी की ओपनिंग 1977 में यहीं से की थी. उनके करीबी ने बताया कि ‘तेजप्रताप यादव का मनना है कि पत्नी ऐश्वर्या राय 10 फरवरी 2020 को 25 वर्ष की होंगी. तब कोई प्राबलेम नहीं रहेगा क्योंकि इसके बाद वो मेरे द्वारा खाली की गइ महुआ विधानसभा सीट से राजद की उम्मीदवार बन जाएगी.’

वैसे तेज प्रताप यादव के दोस्त बताते हैं कि ‘तेज प्रताप ने अपने लिए सारण तथा अपने एक खास राजनीतिक मित्र के लिए काराकाट लोकसभा सीट की मांग राजद नेतृत्व से करने वाले हंै’. बताते चलें कि 2015 विधानसभा चुनाव के समय भी राजद सुप्रीमों लालू यादव को विवश होकर अपने इस ‘तुनूकमिजाजी’ पुत्र को तीन सीट देना पड़ा था- महुआ, काराकाट तथा अलौली.

tej pratap warning

तेजप्रताप यादव का अपना अलग वार रूम है. इसके मेम्बर चुनाव के वक्त अल्ट्रा सक्रिय रहते हैं. बेचुनावी मौसम में भी ये लोग सुबह-शाम बैठकी करते हैं तथा अपने नेता की सुनहरे राजनीतिक भविष्य के लिए रणनीति बनाते हैं. उन्हीं रण्नीतिकारों में से एक ने बताया कि ‘आने वाले दिनों में तेजप्रताप यादव सारण लोकसभा क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाली सभी 6 विधानसभा क्षेत्रों का दौरा करेंगे. पब्लिक मिटिंग में सार्वजनिक रूप से अपने चुनाव लड़ने वाली बात की घोषणा नहीं करेंगे’.

दसरी तरफ, राजद के प्रवक्ता और मनेर से विधायक भाई बीरेन्द्र ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि ‘कौन कहां से चुनाव लड़ेगा इसका फैसला दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव तथा तेजस्वी यादव करेंगे. इससे ज्यादा इस सवाल पर नहीं बोलूंगा’. अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या राजद सुप्रीमों लालू याद अपने ‘जिद्दी’ पुत्र तेजप्रताप यादव की ‘जिद’ को इस बार भी पूरा करेंगे?
लेखक : कन्हैया भेलारी, वरिष्ठ पत्रकार, बिहार (मूल रूप से यह पोस्ट उनके फेसबुक वॉल पर प्रकाशित है)

Source: Live Bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published.