कहते हैं ना हो हर मुश्किल की तोड़ दे दीवार वही असली सन ऑफ बिहार। बिहार लोक सेवा आयोग की परिणाम जारी हो गयी है, छपरा के लाल कृष्ण कुमार ने जो कर दिखाया है शायद उनके लिए सपने साकार होने जैसा है। कृष्‍ण कुमार के पिता मदन प्रसाद गुप्ता लिट्टी-चोखा बेचकर परिवार पालते हैं। गरीबी की जिंदगी में भी उन्‍होंने अपने बेटे कृष्‍ण कुमार की पढ़ाई-लिखाई में कोई कमी नहीं की। कृष्‍ण कुमार ने भी मेहनत से कभी जी नहीं चुराया। इसका परिणाम सुखद रहा। बेटे ने बीपीएससी की 63 वीं परीक्षा में 86वीं रैंक लाकर अपने माता-पिता के सपनों को पूरा किया। वह डीएसपी बन गए।

उनकी स्कूली शिक्षा बी. सेमिनरी से हुई है। इंटर से पीजी तक की पढ़ाई उन्होंने राजेंद्र कॉलेज से किया है। बीपीएससी की तैयारी भी वह छपरा में ही रहकर किये। उनके पिता लिट़्टी चोखा बेचकर परिवार का भरण-पोषण करते थे। कृष्ण कुमार ने बताया कि पिता जी ने बहुत संघर्ष कर हमें पढ़ाया है। वह लिट्टी -चोखा बेचकर मुझे इस लायक बनाए हैं। पिछले साल बीपीएससी परीक्षा में राजस्व अधिकारी के रूप में चयन होने के बाद मेरे परिवार को आर्थिक रूप से मजबूती मिली। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय माता – पिता को दिया है। उन्होंने बताया कि वे डीएसपी तो बन गए हैं लेकिन आईएएस बनने के लिए यूपीएससी की तैयारी में जुट गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here