ऐसे तो ई-रिक्शा पर्यावरण का साथी बताया जाता है, लेकिन इसके परिचालन में उपयोगी बैट्री लेड से बनी होती है। लेड पर्यावरण के साथ ही मानव के लिए भी हितकर नहीं।

 

पटना स्थित नवीन पॉलीटेक्निक के विद्यार्थियों ने इसका समाधान निकाल लिया है। वे लिथियम बैट्री से ई-रिक्शा चलाने में कामयाब रहे हैं। यह पर्यावरण के लिए हितकर होने के साथ ही कम खर्चीला है। लिथियम बैट्री को ई-रिक्शा की छत पर सौर ऊर्जा प्लेट से जोड़कर चार्ज करने के लिए लगाया जाता है। यह बैट्री को निरंतर चार्ज करता है। राजकीय नवीन पॉलीटेक्निक पटना-13 की ऑटोमोबाइल ब्रांच के पप्पू कुमार, शशि कांत, अमन, पिंटू, विपिन आदि के सहयोग से यह प्रयोग सफल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here