आज सावन का चौथा और अंतिम सोमवार है। मंदिरों में सुबह से ही घंटियों की आवाज गूंजने लग गई है। भक्त बेलपत्र, शहद, दूध और धतूरा सहित अन्य कई सामग्रियों को चढ़ाकर भोलेनाथ को प्रसन्न करने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं एएनआई में आई गोरखपुर के मंदिरों की तस्वीर में भक्तो की भी’ड़ को देखा जा सकता है।

तस्वीर में देखा जा सकता है कि कैसे बड़ी संख्या में महिलाएं और पुरुष लाइन में लगकर पूजा करने का इंतजार कर रहे हैं।वहीं एक खास बात यह है कि आज बकरीद भी है। जिसे लेकर प्रशासन भी अ’लर्ट है। वैसे तो प्रशासन ने सावन के पहले सोमवार से ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं लेकिन आज सुरक्षा व्यवस्था कुछ ज्यादा ही क’ड़ी रहेगी।

क्योंकि जो कांवड़ अभी तक भोलेनाथ के दर्शन नहीं कर पाए थे वह आज ही मंदिरों की ओंर रुख करेंगे। जिससे मंदिरों और सड़कों पर कांवड़िओं का हुजूम उ’मड़ सकता है। उनके साथ भोलेनाथ के भजनों से गूंज रहे डीजे भी साथ हो सकते हैं। वहीं दूसरी ओंर बकरीद होने के कारण बड़ी संख्या में मुस्लिम भी सड़कों एवं मस्जिदों में दिखाई देंगे। इसलिए प्रशासन इस बात का पूरा ध्यान रख रहा है कि कहीं कोई अ’प्रिय घटना न होने पाए और शांति से दोनों धर्म के लोग अपना -अपना त्योहार मना सकें।

17 जुलाई से सावन का महीना शुरू हुआ था । सावन में महादेव की विशेष पूजा की जाती है। सावन के सोमवार में शिवलिंग की पूजा करने से महाकाल प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सभी मुराद पूरी करते हैं। इस दिन धन और संतान की इच्छा रखने वाले लोगों को भगवान शिव की अभिषेक करना चाहिए। सावन के आखिरी सोमवार के दिन शिवलिंग पर जलाभिषेक करने का खास महत्व है। इस दिन ॐ गौरिशंकराय नमः मंत्र का जाप करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाना चाहिए। इसका विशेष लाभ प्राप्त होता है।

Sources:-Live News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here