लालू के नए-अनोखे अंदाज़, कोर्ट में बोले- हुजूर दुर्गापूजा की बधाई स्वीकार करें

खबरें बिहार की

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले के चार मामले में शुक्रवार को सीबीआइ के तीन विशेष कोर्ट में उपस्थित हुए। उन्होंने तीनों कोर्ट में हाजिरी लगाई।

देवघर और चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में लालू प्रसाद को गवाह प्रस्तुत करना था, लेकिन गवाही नहीं हुई। पूर्व महाधिवक्ता एसबी गाडोदिया के निधन के कारण अधिवक्ता न्यायिक कार्य से दूर रहे।

इसलिए गवाही का कार्य नहीं हो सका। न्यायायुक्त एसएस प्रसाद की अदालत में लालू नए अंदाज में दिखे। हाजिरी लगाने के बाद पहले तो वह कोर्ट रूप से बाहर चले गए।

फिर अचानक वह कोर्ट रूम में दोबारा पहुंचे। उन्होंने न्यायायुक्त एसएस प्रसाद के कहा- दुर्गापूजा और दीपावली की बधाई स्वीकार की जाए।

इसी क्रम में उन्होंने न्यायायुक्त से यह कह दिया कि हुजूर यहां पर सिर्फ बधाई ही दे सकते हैं। इसके बाद न्यायायुक्त ने उनसे कहा कि आपको भी पूजा की बधाई हो। इसके बाद लालू कोर्ट से निकल गए।

30 तक कोर्ट बंद, 31 को होगी गवाही
दुर्गापूजा, मुहर्रम, दीपावली और छठ पूजा को लेकर 30 अक्तूबर तक सिविल कोर्ट बंद रहेगा। यह छुट्टी 24 सितंबर से शुरू होगी। 31 अक्तूबर से कोर्ट पुनः खुलेगा।

चारा घोटाला के मामले की सुनवाई होगी। उम्मीद जतायी जा रही है कि लालू की ओर से आखिरी गवाह की गवाही तीन नवंबर को दर्ज की जाएगी।

दुरई का स्टेटमेंट होगा रिकॉर्ड
चारा घोटाला मामले में एपी दुरई का स्टेटमेंट रिकॉर्ड किया जाएगा। लालू के अधिवक्ता की ओर से कोर्ट में आवेदन दिया गया है। इसमें कहा गया कि एपी दुरई का स्वास्थ्य ठीक नहीं है।

वह कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सकेंगे। इसलिए उनका स्टेटमेंट उनके घर पर जाकर रिकॉर्ड किया जाए। इस पर न्यायायुक्त एसएस प्रसाद की अदालत ने इसकी सहमति दी है।

बता दें कि लालू की गिरफ्तारी के लिए सेना से मदद मांगी गई थी। इस मामले को लेकर देशभर में हो-हंगामा हुआ था। हंगामा को देखते हुए केंद्र सरकार ने मामले की जांच करने के लिए एक आयोग का गठन किया था। एपी दुरई को इसकाअध्यक्ष बनाया गया था।

रेलवे होटल टेंडर घोटाला: सीबीआई ने लालू को 25 सितंबर और तेजस्वी को 26 सितंबर को पूछताछ के लिए बुलाया

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव को सीबीआई ने समन भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया है।

सूत्रों की मानें तो रेलवे के होटल टेंडर में कथित गड़बड़ी के मामले में लालू को 25 सितंबर को तलब किया गया है, जबकि तेजस्वी को 26 सितंबर को पेश होने को कहा गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक इससे पहले सीबीआई ने दोनों को क्रमश: 11 और 12 सितंबर को पूछताछ के लिए बुलाया था। लेकिन दोनों ने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम का हवाला देकर पेश होने के लिए वक्त मांगा था।

सीबीआई ने आरोप लगाया कि रेल मंत्री के पद पर रहते हुए लालू ने रांची और पुरी में आईआरसीटीसी द्वारा संचालित दो होटल के रखरखाव का काम सुजाता होटल को दिया था।

आरोप है कि विनय और विजय कोचर के स्वामित्व वाली इस कंपनी को बेनामी कंपनी के जरिये पटना में तीन एकड़ भूखंड देने के बदले यह ठेका दिया गया था।

इससे पहले 27 जुलाई को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रेलवे होटल टेंडर मामले में ही धन शोधण निषेध कानून (पीएमएलए) के तहत लालू प्रसाद और उनके परिवार के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.