क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड मिल्क डे, जानिए इसका इतिहास और इस साल की थीम

जानकारी

वर्ल्ड मिल्क डे संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन द्वारा 1 जून  साल 2001 को इस दिन के रूप में अपनाया गया था। यह दिन दूध को वैश्विक खाने के रूप में मान्यता देने और डेयरी इंडस्ट्री को सेलिब्रेट करने के लिए मनाया जाता है। दूध और डेयरी उत्पादों के लाभों को बढ़ावा देने वाले कार्यक्रमों और अभियानों के साथ इस दिन को मनाया जाता है।

क्यों मनाया जाता है ये दिन

दूध ऐसी चीज है जिसे सभी लोग बचपन से पीना शुरू कर देते हैं। एफएओ की ऑफिशियल वेबसाइट के मुताबिक, विश्व दूध दिवस का विचार दुनिया में दूध और डेयरी क्षेत्र के योगदान का जश्न मनाना है। साल 2001 से हर  वर्ष 1 जून को यह दिवस मनाया जाता रहा है।

क्या है इस दिन का महत्व

विश्व मिल्क डे का मुख्य उद्देश्य लोगों के जीवन में दूध के मूल्य के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना है। यह जन्म के बाद बच्चे द्वारा खाया जाने वाला पहला खाना है, और यह जीवन भर खाया जाने वाला एकमात्र खाना हो सकता है।

 

वर्ल्ड मिल्क डे थीम 

विश्व दूध दिवस के दिन हर साल कुछ न कुछ थीम रखी जाती है। इस साल प्रोग्राम 29 मई से 31 मई तक एक डेयरी रैली के साथ शुरू हुआ और 1 जून को विश्व दूध दिवस यानी आज खत्म होगा। थीम के बारे में बताएं तो इस साल जलवायु परिवर्तन संकट की ओर दुनिया का ध्यान आकर्षित करना और इस बात पर ध्यान डालना है कि डेयरी इंडस्ट्री पर अपने प्रभाव को कैसे कम कर सकता है। अगले 30 वर्षों में इंडस्ट्री के ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कटौती करके ‘डेयरी नेट जीरो’ पर ध्यान आकर्षित किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.