क्या ठंडा पानी आपकी किडनी को डैमेज करता है? जानिए किडनियों को हमेशा हेल्दी रखने के लिए क्या करें

जानकारी

अध्ययन बताते हैं कि ज्यादा मात्रा में पानी का सेवन अच्छे से ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है. सर्दियों में ठंडा पानी आपकी किडनी को प्रभावित करता है यह फैक्ट किस हद तक सही है? यह फैक्ट है कि जब तापमान गिरता है, तो हमारे शरीर में खनिजों का लेवल भी घटता है. जो बच्चे पानी का ज्यादा सेवन करते हैं उनमें लो आयरन, लो विटामिन बी की संभावना होती है. या ठीक इसके उलट पर्याप्त पानी नहीं पीने से आपके बच्चे को कम आयरन, कम विटामिन बी और कम पानी का सेवन करने की संभावना बढ़ जाती है. कई लोग ये भी मानते हैं कि ठंडा पानी किडनी को डैमेज करता है? क्या ये वाकई सही है? यहां जानिए.

क्या ठंडा पानी आपकी किडनी के लिए बुरा है?

यह आपकी किडनी के लिए बुरा नहीं है, लेकिन यह उनके लिए सबसे अच्छा भी नहीं है. जब आपके शरीर के अंदर का तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट से ऊपर हो जाता है तो किडनी तरल पदार्थ छोड़ने के लिए बने होते हैं. जब आप ठंडा पानी पीते हैं, तो आपके शरीर को पानी का तापमान 100 डिग्री तक बढ़ाने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है, इससे पहले कि किडनी इसे छोड़ सकें यह अतिरिक्त काम किडनी की समस्या वाले बच्चों में डिहाइड्रेशन और किडनी की अन्य समस्याओं का कारण बन सकता है. इसलिए, जबकि ठंडा पानी पीना आपके बच्चे के किडनी के लिए बुरा नहीं है, अगर आप उसे कमरे के तापमान या थोड़ा गर्म पानी पीने दें तो वह अधिक हेल्दी तरीके से काम करेगा!

फिर ठंडा पानी पीने में समस्या क्या है?

  • हमारी कोशिकाओं को उनके अंदर जमा खनिजों को मुक्त करने के लिए हमें एक हेल्दी डाइट लेनी चाहिए जो आयरन, विटामिन बी और पानी से भरपूर हो.
  • जब हमारी कोशिकाएं इन खनिजों को छोड़ती हैं, तो वे किडनी पर दबाव डालते हैं.
  • जब किडनी दबाव में होते हैं, तो वे सामान्य से अधिक पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स का उत्सर्जन करते हैं, जिससे डिहाइड्रेशन हो सकता है.
  • डिहाइड्रेशन से किडनी की कार्यक्षमता कम हो सकती है, जिससे आपका बच्चा निमोनिया और ब्रोंकाइटिस जैसे संक्रमणों से बीमार होने के लिए अधिक संवेदनशील हो सकता है.
  • ठंडा पानी पीने से आपके बच्चे की किडनी पर दबाव बढ़ जाता है जिससे उन्हें जरूरत से अधिक पानी निकालने के लिए मजबूर होना पड़ता है. इसलिए अगर आपका बच्चा पहले से ही कम आयरन/कम-विटामिन बी/कम पानी वाले आहार के कारण डिहाइड्रेटेड है, तो इससे उसकी स्थिति और खराब हो सकती है.
  • इस वजह से माता-पिता को अपने बच्चों की ड्रिंक्स को जितना हो सके ठंडा रखना चाहिए.

क्या आपको अपने बच्चे के पर्यावरण को ठंडा रखना चाहिए?

  • हां, अपने बच्चे के वातावरण को ठंडा रखना एक अच्छा विचार है.
  • अपने बच्चे के वातावरण को ठंडा रखने से उन्हें लंबे समय तक हाइड्रेटेड रहने में मदद मिल सकती है और उनकी किडनी को हेल्दी रख सकते हैं.
  • जब आपके बच्चे घर से बाहर जाएं तो ध्यान दें कि उन्होंने ऐसी जैकेट पहनी हो जिस पर स्वेटर या स्वेटशर्ट की परत चढ़ी हो. यह उन्हें ठंड के मौसम में बाहर खेलने के दौरान गर्म और अधिक आरामदायक रहने में मदद करेगा.
  • जब आपका बच्चा घर के अंदर हो, तो ध्यान रखें कि उनके कमरे का तापमान आरामदायक स्तर पर बना रहे ताकि वे अनावश्यक रूप से अधिक पानी पीए बिना गर्म रह सकें.
  • एक बच्चे की किडनी के लिए सबसे अच्छा तापमान क्या है?

    एक बच्चे की किडनी के लिए सबसे अच्छा तापमान लगभग 36 डिग्री सेल्सियस (97.4 डिग्री फ़ारेनहाइट) माना जाता है.
    यह तापमान किडनी पर अतिरिक्त दबाव डाले बिना खनिजों और तरल पदार्थों को छोड़ने की अनुमति देता है.
    अगर आपका बच्चा ठीक से गर्म पानी नहीं पीता है, तो उसे किडनी में इंफेक्शन और अन्य समस्याएं होने का खतरा होता है!

  • क्या ठंडा पानी आपके बच्चे की किडनी के लिए अच्छा है?

  • ठंडा पानी आपके बच्चे के किडनी को जरूरत से अधिक पानी निकालने के लिए मजबूर करता है, जिससे आपका बच्चा पहले से भी अधिक डिहाइड्रेटेड हो सकता है.

    अगर आपका बच्चा पहले से ही डिहाइड्रेटेड है, तो इससे उसकी स्थिति और खराब होगी!

    हमारे अनुभव में जो बच्चे बहुत अधिक ठंडा पानी पीते हैं, उनके संक्रमण से बीमार होने की संभावना अधिक होती है जो इम्यून सिस्टम को कम करते हैं और उन्हें निमोनिया और ब्रोंकाइटिस जैसी अन्य बीमारियों से बीमार होने के लिए अतिसंवेदनशील बनाते हैं. ऐसा इसलिए है क्योंकि ठंडा पानी शरीर के तापमान को कम करता है, जिससे हमारे शरीर के लिए निमोनिया और ब्रोंकाइटिस जैसे संक्रमणों से लड़ना मुश्किल हो जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.