क्या आपके पास है 15 साल पुराना वाहन? परिचालन पर तत्काल प्रभाव से लगी रोक, पढ़ें इसकी वजह

जानकारी

बिहार के परिवहन विभाग ने 15 साल पुराने डीजल चालित व्यावसायिक वाहनों के परिचालन पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। 15 साल पुराने वाहन चलाने पर अब जुर्माना कटेगा। शनिवार से स्पेशल टीम बनाकर राजधानी के हर रूट पर गाड़ियों की जांच की जाएगी। जांच में 15 साल पुराने डीजल चालित व्यावसायिक वाहन पाये जाने पर उसे सीज करने का भी प्रावधान है।

जुर्माने के डर से राजधानी में कम चले ऑटो

राजधानी के शहरी क्षेत्र में शुक्रवार से डीजल चालित ऑटो का परिचालन बंद कर दिया गया है। पटना सिटी, फुलवारीशरीफ, खगौल और दानापुर इलाके में डीजल से चलने वाले ऑटो का परिचालन नहीं हो रहा है। मनाही के बाद भी डीजल चालित ऑटो चलाने पर 2500 रुपये का जुर्माने का प्रावधान किया गया है। पहले दिन 30 हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया है। जुर्माने के डर से राजधानी में शुक्रवार को कम ऑटो दिखे।

आर्थिक स्थिति ठीक नहीं

शहरी क्षेत्र में डीजल ऑटो का परिचालन बंद होने से हजारों ऑटो चालक सड़क पर आ गये हैं। क्योंकि अब भी 20 प्रतिशत ऑटो सीएनजी में कंवर्ट नहीं हुए हैं। ऑटो चालकों का कहना है कि कोराना की वजह से उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई है।

20 हजार से अधिक परिवार प्रभावित

ऑटो यूनियन की बैठक में सुबोध कुमार ने बताया कि डीजल ऑटो का परिचालन बंद होने से 20 हजार से अधिक परिवार प्रभावित हुए हैं। बैठक में ऑटो रिक्शा चालक संघ से धर्मेंद्र पासवान,रविन्द्र तिवारी, संतोष पासवान, पटना जिला ऑटो रिक्शा चालक संघ से देवेंद्र तिवारी,बिजली प्रसाद, सत्येंद्र लाल, बिहार राज्य टेंपू चालक संघ से नवीन मिश्रा, मुर्तजा अली, विजय नाथ राय, सुनील कुमार, अरविंद कुमार आदि उपस्थित थे। बैठक में सर्वसम्मति से तय हुआ कि पूर्व प्रस्तावित रविवार को होने वाली आम बैठक में रणनीति बनाकर बड़े आंदोलन की घोषणा की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.