हरियाणा में किया गया बिहार के कुंदन को सम्मानित, मिला गया “यूथ आइकॉन 2018” अवार्ड

कही-सुनी

जिले के खिजरसराय ब्लॉक के शिवनगर गाँव के रहने वाले कुंदन कुमार को देश की प्रतिष्ठित संस्था “नेशनल ह्यूमन वेलफेयर कॉउन्सिल” द्वारा युथ आइकॉन 2018 अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. जिसका आयोजन हरियाणा के गुरुग्राम (गुड़गांव) में हुआ. पूरे देश भर से अलग अलग राज्यों के 31 लोगों को युथ आइकॉन अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया. बिहार से तीन लोगों को यह सम्मान दिया गया जिसमें गया के कुंदन कुमार को सामाजिक कार्य के क्षेत्र में दिया गया.

22 वर्षीय कुंदन कुमार गया जिला के खिजरसराय प्रखंड के शिवनगर के रहने वाला है।इनके पिता राणा कमलेश सिंह जो की औरंगाबाद भवन निर्माण विभाग में कार्यरत हैं। कुंदन ने लगातार समाज सेवा में अपनी योगदान दे रहे हैं। कुंदन बिहार में कई तरीके का सामाजिक काम किया है।

कुंदन अपनी 10 वीं की पढ़ाई औरंगाबाद के सरस्वती शिशु मंदिर उच्च विद्यालय से पूरा किए उसके बाद उच्च शिक्षा की पढ़ाई चंडीगढ़ के स्वामी विवेकानंद ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूट से डिप्लोमा इन मैकेनिकल इंजिनीरिंग पुरा किए।

इन्होंने अनेकों सामाजिक कार्य किए गए औरंगाबाद जिला के स्लम बच्चें के साथ दिवाली मोमबत्ती तथा मिठाईयां बाँटकर मनाये।

आपको बताते चलें कि कुंदन कुमार “डॉक्टर्स फ़ॉर यू” संस्था में प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर के पद पर कार्यरत हैं.
N.H.WC. संस्था के अध्यक्ष श्री गुंजन मेहता जी ने यह खबर देते हुए कहा कि “हमारा प्रयास है कि राष्ट्रीय स्तर पर समाज कल्याण के क्षेत्र में अप्रतिम योगदान देने वाले व्यक्तियों को उनके योगदान के लिए पुरस्कृत किया जाए ताकि उनका मनोबल बना रहे तथा समाजहित में काम करते रहें”.

कुंदन अपनी 15 वर्ष के उम्र से ही समाज के युवाओं के साथ अनेकों कार्य कर रहे हैं। अपने जिले में खेल-कूद, कला और क्विज का प्रतियोगिता “युवा खेल समिति ” बना कर इस तरह के कार्य करते हैं।  मानवता की सेवा में एक अलग मुकाम बनाया है.

खासतौर पर “यूवा खेल समिति” के माध्यम से खेल तथा कला के क्षेत्र में युवाओं को एक प्लेटफॉर्म देने का उनका भागीरथी प्रयास अनुकरणीय और प्रशंसनीय है इनके द्वारा स्वच्छता अभियान इत्यादि अनेकों काम किए गए हैं.
कुंदन को इस अवार्ड के लिए संस्था के निर्णायक मंडल द्वारा सम्मानित करना संस्था के लिए भी गौरव की बात है.”

कुंदन कहते हैं कि “निश्चित रूप से मेरे लिए यह खुशी की बात है कि मुझे यूथ आइकॉन अवॉर्ड- 2018 से सम्मानित किया गया. लेकिन मेरा लक्ष्य अवॉर्ड नहीं बल्कि सिर्फ अपने योगदान और प्रयासों से समाज को लाभान्वित करना तथा समाज को सकरात्मक दिशा में ले जाने में हरसंभव मदद करना है.

इस अवॉर्ड को मिलने से मेरा लगाव समाज के प्रति काफी और ज्यादा हो जाएगा. हम सब को अपने आस पास के परिवेश को बेहतर बनाने के लिए निःस्वार्थ प्रयास करते रहना चाहिए तथा प्रत्येक यूवा अपने कुछ समय को समाज को सकरात्मक दिशा में ले जाने के लिए प्रयास करना चाहिए.

इनका कहना है कि अगर हम युवा अपने समाज में अपने कुछ समय देतें हैं तो बहुत सारे ऐसे कार्य है जो युवा अपने जीवन में कर समाज को बेहतर बनाने में अहम भूमिका अदा कर सकता है। अगर प्रत्येक युवा समाज को बेहतर बनाने के लिए एक भी कार्य करे तो समाज में इतना बदलाव आएगा की कल्पना नही कर पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.