खाद की किल्लत से जूझ रहे किसान सड़क पर उतरे, हाइवे जाम कर प्रदर्शन, बोले- 10 दिनों से डीएपी नहीं मिल रहा, मिलीभगत से हो रही कालाबाजारी

खबरें बिहार की जानकारी

खाद को लेकर पिछले कई दिनों से परेशान किसानों का गुस्सा सोमवार फिर भड़क गया। किसानों ने सुपौल जिले में कई जगह सड़क जाम कर अपना विरोध जताया। आक्रोशित किसानों ने कृषि विभाग, प्रशासन और सरकार के खिलाफ जमकर नारे भी लगाए। सरायगढ़ भपटियाही में कई गांव के किसानों ने सुबह-सुबह भपटियाही में एनएच 57 को जाम कर दिया।

पिपरा प्रखंड के थुमहा बाजार में भी किसानों ने एनएच 327 ई को जाम किया। खाद की परेशानी को लेकर छातापुर में भी किसान सड़क पर उतर गए। यहां किसानों ने एसएच 91 को कुछ देर के लिए जाम किया। किशनपुर के अंदौली चौक पर किसानों ने एनएच 327 ए जाम किया। राघोपुर में भी किसानों ने प्रखंड कार्यालय के सामने एनएच 106 को जाम कर विरोध जताया। प्रतापगंज में भी किसानों का प्रदर्शन जारी रहा। यहां किसानों ने गोल चौक पर जाम कर जमकर बवाल काटा।

किसानों का कहना था कि अभी गेहूं की बुआई सबसे बेहतर समय है लेकिन पिछले दस दिनों से उन्हें डीएपी नहीं मिल रहा है। खाद के लिए कहीं रात से अहले सुबह से ही किसान दुकानों के सामने लाइन में खड़े हो जाते हैं। किसानों का आरोप था कि जिले में खाद की कमी नहीं है। कृत्रिम किल्लत की स्थिति उत्पन्न कर कृषि विभाग के अधिकारियों और खाद दुकानदारों की मिलीभगत से खाद की कालाबाजारी की जा रही है। कई जगह एनएच जाम रहने से वाहन चालकों और राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। बाद में अधिकारियों के समझाने पर किसानों का आंदोलन समाप्त हुआ। इधर अररिया में किसानों ने खाद के लिए जगह-जगह जाम कर विरोध प्रदर्शन किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.