KBC के सीजन 9 के साथ एक बार फिर अमिताभ बच्चन छोटे पर्दे पर आने वाले हैं। पिछले आठ सीजन में इस शो ने कई लोगों की लाइफ बदल दी।

बिहार के पूर्वी चम्पारण जिले के मोतिहारी के सुशील कुमार ने 2011 में KBC के सीजन 5 में पांच करोड़ रुपए जीते थे। छह हजार महीने की नौकरी करने वाले सुशील कुमार ने ईनाम के पैसे से अपना पुश्तैनी मकान ठीक करा अपने भाइयों को बिजनेस शुरू कराया।

सुशील 100 गरीब बच्चों को गांव में पढ़ा भी रहे हैं।
केबीसी में जाने से पहले एमए तक की पढ़ाई करने वाले सुशील मनरेगा में कम्प्यूटर ऑपरेटर की नौकरी करते थे। उन्हें 6 हजार रुपए प्रति माह सैलरी मिलती थी। सुशील का घर टूट गया था, जिसके उनका परिवार किराये के मकान में रहता था।

‘KBC’ से मिले थे सिर्फ 3.6 करोड़ रुपए

KBC से सुशील ने जीते तो 5 करोड़ रुपए थे, लेकिन इनकम टैक्स काटने के बाद उन्हें 3.6 करोड़ रुपए ही मिले। इस पैसे से उन्होंने पुश्तैनी मकान को ठीक कराकर अपना पहला सपना पूरा किया।

इसके बाद अपने भाइयों के लिए बिजनेस शुरू करवाया। सुशील ने बाकी बचे पैसे बैंक में जमा करा दिए थे, जिसके ब्याज से परिवार का खर्च चलता है। अब सुशील बिजनेस संभालने के साथ स्क्रिप्ट भी लिखते हैं।

100 गरीब बच्चों को पढ़ाने की ली जिम्मेदारी

स्क्रिप्ट लिखने और अपना बिजनेस संभालने के साथ सुशील गरीब बच्चों की जिंदगी बनाने की कोशिश भी कर रहे हैं। उन्होंने 100 महादलित (मुसहर) बच्चों को गोद लिया है। उन्हें पढ़ाने के लिए मोतिहारी स्थित कोटवा प्रखंड के मच्छहर गांव में ‘गांधी बचपन केन्द्र’ खोला था।

इस इलाके के महादलित परिवार गरीबी के कारण बच्चों को पढ़ा नहीं पाते थे, अब सुशील के चलते उनके बच्चे रोज स्कूल जाते हैं।

ऐसे हुए थे हॉट सीट के लिए क्वालिफाई

KBC की हॉट सीट के लिए क्वालिफाई करने के लिए आठ लोगों को चुना गया था। उसने कहा गया था कि सबसे कम से शुरू करते हुए समय की इन अवधियों को बढ़ते क्रम में सजाएं।

A- पौना घंटा
B- सवा घंटा
C- एक घंटा
D- आधा घंटा

आठों प्रतिभागी ने इस प्रश्न का सही उत्तर दिया था। उत्तर देने में सुशील कुमार ने सबसे कम समय (4.957 सेकंड लगाया), जिसके चलते उन्हें KBC हॉट सीट के लिए चुना गया।

KBC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here