कौन हैं निर्दलीय सुमित सिंह जिनको मजबूत बहुमत के बाद भी नीतीश ने सरकार में मंत्री बनाया

खबरें बिहार की जानकारी

नीतीश कैबिनेट का विस्तार मंगलवार को हो गया है। राजभवन में कुल 31 मंत्रियों ने शपथ दिलाई गई। जमुई के चकाई से निर्दलीय विधायक सुमित कुमार सिंह को भी नीतीश कैबिनेट में मंत्री बनाया गया है। सुमित कुमार सिंह बिहार के कद्दावर नेता रहे दिवंगत नरेंद्र सिंह के बेटे हैं।

सुमित सिंह एनडीए सरकार में भी मंत्री थे। सुमित कुमार सिंह के दादा स्वतंत्रता सेनानी, कुशल राजनीतिज्ञ स्व श्रीकृष्ण सिंह भी चकाई से दो बार विधायक रहे हैं। जेएनयू के छात्र रहे सुमित कुमार सिंह छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय हो गये थे। उन्होंने पहली बार 2010 में चकाई विधानसभा से जेएमएम की टिकट पर चकाई से ही चुनाव जीता था।

2015 के विधानसभा चुनाव में जेडीयू ने उन्हें टिकट नहीं दिया जिसके बाद निर्दलीय चुनाव लड़े और पराजित हो गये। वर्ष 2020 के चुनाव में भी निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरे और चकाई से जीत हासिल की। 2020 में वह बिहार में निर्दलीय विधायक बनने वाले एकलौते विधायक थे।

स्वतंत्रता संग्राम में अहम योगदान देने वाले श्रीकृष्ण सिंह ने राजनीतिक जीवन में भी परचम लहाराया था। अंग्रेजों के द्वारा उन्हें जिंदा या मुर्दा पकड़ने वालों को पांच हजार रुपया इनाम देने की घोषणा की गयी थी। देश को आजादी दिलाने के बाद वे वर्ष 1962 में झाझा विधानसभा से विधायक बने। इसके बाद वर्ष 1967, वर्ष 1969 में पुन: चुनाव जीतकर उन्होंने प्रदेश सरकार में पथ परिवहन विभाग, पीएचडी और पशुपालन विभाग का मंत्री संभाला था। 1967 के भीषण अकाल में उन्होंने लोगों के भीच बहुत सक्रिय होकर काम किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.