कटिहार के DM कार छोड़कर साइकिल से जा रहे आफ‍िस, BDO-CO भी कर रहे ‘सैटरडे साइकिलिंग’

जानकारी

कटिहार के डीएम उदयन मिश्रा चर्चा में हैं। ग्‍लोबल वार्मिंग को देखते हुए उन्‍होंने ‘सैटरडे साइकिलिंग’ की अनूठी मुहिम शुरू की है। इस मुहिम से अधिकारियों और कर्मियों को जुड़ने की अपील उन्‍होंने की है। इसके तहत हर शन‍िवार को साइकिल से दफ्तर आने की अपील की है। इसके लिए उन्‍होंने पत्र जारी किया है।

इस मुहिम के तहत शनिवार को डीएम उदयन मिश्रा खुद भी कार छोड़कर साइकिल से अपने दफ्तर आए। इसके अलावा बीडीओ, सीओ व अन्‍य अधिकारी भी साइकिल से दफ्तर पहुंचे। सभी के चेहरे पर मुस्‍कान थी। दरअसल, इस अभियान के पीछे तर्क यह द‍िया जा रहा है कि अगर अधिकारी और कर्मी पर्यावरण संरक्षण और खुद को सेहतमंद रखने के लिए इस मुहिम का हिस्‍सा बनेंगे तो आम लोगों में अच्‍छा संदेश जाएगा।

बीडीओ बोले- स्‍कूल के दिनों की याद ताजा हो गई 

आजमनगर बीडीओ सुनील कुमार मिश्रा शनिवार को साइकिल की सवारी कर अपने सरकारी कार्यालय पहुंचे। कार्यालय पहुंच कर उन्होंने कहा कि साइकिल की सवारी कर स्कूल के दिनों की याद ताजा हो गयी। कहा कि कटिहार जिला वायु गुणवत्ता सूचकांक में पिछड़ता जा रहा है। लगातार बढ़ते वाहनों के कारण ग्रामीण क्षेत्र की हवा भी साफ नहीं रही है।जिसके कारण लोगों के स्वास्थ्य पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।जिला पदाधिकारी की अपील पर अगर सरकारी कार्यालयों से ही इसकी शुरुआत हो तो समाज को एक बेहतर संदेश जाएगा और इसी बहाने साइकिल चलाने से स्वास्थ्य भी सुधरेगा। इस दौरान उन्होंने प्रखंड कर्मियों तथा मौजूद लोगों से सप्ताह में कम से कम एक दिन साइकिल और पैदल चलने की अपील की। उन्होंने जिलाधिकारी के अपील पर यथासंभव अमल की अपील लोगों से की।

सीडीपीओ और सीओ भी साइकिल से दफ्तर पहुंचे

कोढ़ा प्रखंड के सीओ विक्रम भास्कर झा साइकिल से तो बाल विकास परियोजना पदाधिकारी अमृता वर्मा पैदल कार्यालय पहुंची। ज्ञात हो कि पिछले दिनों जिलाधिकारी ने जिले के पदाधिकारियों से सप्ताह में एक दिन शनिवार को साइकिल या पैदल कार्यालय पहुंचने की बात कही थी। जिसके आलोक में कई पदाधिकारियों ने साइकिल या फिर पैदल कार्यालय का रूख किया। कहा गया कि ग्लोबल वार्मिंग के तहत प्रदेश में वायु प्रदूषण वर्तमान में न सिर्फ सरकार के लिए आमजन के लिए भी एक गंभीर समस्या है। यह केवल मानव जीवन ही नहीं वनस्पति व अन्य जीवों के साथ साथ जलवायु एवं पर्यावरण को भी प्रभावित करता है। कटिहार जिले में पिछले वर्ष की तुलना में वायु गुणवत्ता सूचकांक ऊपर बढ़ रहा है। जिसको देखते हुए हर शनिवार को पैदल या साइकिल से कार्यालय आने की बात कही गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.