कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए उमड़ी भीड़, बिहार में लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

आस्था खबरें बिहार की

कोरोना पूर्णिमा के मौके पर बिहार में अलग-अलग जगहों पर मंगलवार को लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान कर पूजा-अर्चना की। दो साल बाद गंगा घाटों पर इतनी भीड़ नजर आई। पटना, भागलपुर, मुजफ्फरपुर समेत अन्य शहरों में स्नान के दौरान मेले जैसा माहौल रहा। भीड़ को देखते हुए पुलिस-प्रशासन की ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम भी किए गए।

राजधानी पटना में 55 गंगा घाटों पर ढाई लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। श्रद्धालुओं का सोमवार से ही पटना में जुटना शुरू हो गया था। आसपास के जिलों से भी बड़ी संख्या में लोग गंगा स्नान के लिए पटना पहुंचे। उनके आने का सिलसिला देर रात तक जारी रहा। राजधानी के विभिन्न घाटों पर अलसुबह से भीड़ जुटना शुरू हो गई और सूरज उगते ही गंगा स्नान कर लोगों ने पूजा-अर्चना की।

मुजफ्फरपुर के आश्रमघाट, अखड़ाघाट, सीढ़ी घाट, रेवा स्थित नारायणी नदी में स्नान पर्व पर भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। नदी तट पर गंगा मैया के जयघोष से गुंजायमान रहे।

वहीं मठ-मंदिरों में घंटे-घड़ि‍याल बजते रहे। तड़के से शुरू हुए पावन स्नान में शाम तक लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं के नदियों में डुबकी लगाने की संभावना है। श्रद्धालुओं ने कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान किया और अर्घ्‍य देकर सुख-शांति और समृद्धि की कामना की।

भोजपुर के बड़हरा में गंगा घाट पर मेले जैसा माहौल रहा। बक्सर में भी बक्सर में कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान के लिए भारी भीड़ उमड़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.